चींटियों पर काबू करने वाली फफूंद

वैज्ञानिकों ने ब्राजील के वर्षावनों में फफूंद की चार ऐसी किस्मों की तलाश की है जो चींटियों को काबू में कर सकती है. जोम्बी फंगाई नाम का यह फंगस चींटो का व्यवहार बदल देता है और उचित माहौल मिले तो उन्हें मार भी देता है.

ये फफूंद ब्राजील के मिनास गेराइस राज्य में मिली हैं जिन्हें अमेरिका के पेन्सिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने खोजा है. नए किस्म की ये फफूंद ओफियोकॉर्डिसेप्स यूनीलैटरालिस परिवार की है जो चींटियों पर असर डालती है और उनकी मौत का कारण बनती है. इसके असर से चींटियां पत्तों की तरफ जाती हैं और फिर उन्हें काटने की कोशिश करते हैं इसी दौरान उनके जबड़े आपस में जुड़ जाते हैं और उनकी मौत हो जाती है.

नई खोजी गई फफूंदों की एक खासियत ये भी है कि हर फफूंद अलग तरह की चींटों पर अपना असर दिखाती है. वैज्ञानिकों के मुताबिक इससे यह भी पता चलता है कि ब्राजील प्राणियों की विविधता के लिहाज से कितना समृद्घ है. इन फफूंदों में अलग अलग तरह की बीजाणु भी हैं जो चींटों पर जितना ज्यादा हो सके, असर डालने की कोशिश करते हैं.

इससे पहले के रिसर्च से पहले पता चला है कि ओफियोकॉर्डिसेप्स यूनीलैटरालिस परिवार के फफूंद क्यों और कैसे चीटों पर आक्रमण करते हैं. फफूंद के बीजाणु चींटों की बाहरी अस्थियों से चिपक जाते हैं इसके बाद, जैसे जैसे बीजाणु विकसित हो कर चीटों के सिर की तरफ बढ़ने लगते हैं, चीटों का व्यवहार बदलने लगता है. इसके बाद चींटें पेड़ों पर बनी अपनी बांबी से निकल कर जमीन पर आ जाते हैं. यहां मौजूद नमी फफूंद के विकास के लिए आदर्श वातावरण बनाती है. फफूंद का विकास होने लगता है और वो ज्यादा चींटो को अपनी चपेट में लेने लगते हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

ज्ञान विज्ञान | 17.08.2009

संपादनः एमजी

हमें फॉलो करें