अमेरिका से जंग में कौन होंगे ईरान के साथ

अमेरिका और ईरान के बीच की तनातनी ने मध्यपूर्व में एक और युद्ध की आशंका जगा दी है. कई लोग कयास लगा रहे हैं कि युद्ध की स्थिति में ईरान का साथ कौन देगा?

बेरुत में हिज्बुल्लाह के नेता ने ईरान की इस्लामिक क्रांति के 40 वर्ष पूरे होने पर एक बड़ी रैली में मजबूती से संदेश दिया कि अमेरिका से लड़ाई हुई तो ईरान अकेला नहीं होगा. हिज्बुल्लाह के नेता नसरल्लाह ने कहा, "अगर अमेरिका ईरान से युद्ध छेड़ता है तो इस लड़ाई में ईरान अकेला नहीं होगा, क्योंकि हमारे इलाके का भविष्य इस्लामिक रिपब्लिक से जुड़ा है."

लेबनान से लेकर सीरिया, इराक, यमन और गजा पट्टी तक में ईरान ने बीते दशक में अपने लिए समर्थक जुटाए हैं. वह पूरे मध्य पूर्व के संघर्षरत इलाकों में अपने लिए सहयोगी बना रहा है और उनके साथ रिश्ते मजबूत कर रहा है. खुद को "प्रतिरोध की धुरी" कहने वाले गुटों में हिज्बुल्लाह सबसे प्रमुख सदस्यों में है. इन हथियारबंद गुटों में दसियों हजार शिया लड़ाके हैं जो तेहरान के प्रति निष्ठा जताते हैं.

ईरान ने इन गुटों का इस्तेमाल पहले अपने इलाकाई दुश्मनों के खिलाफ हमलों में किया है. इस बात की पूरी आशंका है कि अमेरिका के साथ चल रहा तनाव अगर युद्ध की परिणति तक पहुंचता है तो वह इन लड़ाकों को एकजुट कर इनका इस्तेमाल करेगा.

हिज्बुल्लाह

फाइल

अरबी में हिज्बुल्लाह का मतलब है, "खुदा का दल." ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड ने लेबनान के गृहयुद्ध के दौरान 1980 के दशक में इसकी नींव रखी थी. आज यह इलाके का सबसे प्रभावशाली हथियारबंद गुट है जो ईरान के प्रभाव को इस्राएल के दरवाजे तक ले जा सकता है. ब्रुकिंग्स इंस्टीट्यूट के एक पेपर में अमेरिका के उप विदेश मंत्री जेफरी फेल्टमन ने हिज्बुल्लाह गुट को ईरान का "सबसे सफल निर्यात" और तेहरान का "बहुउद्देशीय औजार" बताया था.

1982 में लेबनान पर इस्राएल की चढ़ाई के बाद उसका मुकाबला करने के लिए हिज्बुल्लाह का गठन हुआ था. हिज्बुल्ला ने 18 साल तक इस्राएल से गुरिल्ला युद्ध किया आखिरकार इस्राएल साल 2000 में लेबनान से बाहर निकल गया. छह साल बाद हिज्बुल्ला ने एक और जंग इस्राएल से लड़ी जो करीब एक महीने चली.

आज इस गुट के पास दसियों हजार रॉकेट और मिसाइलें हैं जो इस्राएल में काफी अंदर तक जाकर मार कर सकती हैं. इसके अलावा कई हजार अनुशासित लड़ाके हैं जिनके पास जंग लड़ने का खूब अनुभव है. हिज्बुल्लाह सरकारी सेना के साथ छह साल से सीरिया में लड़ रहा है और जंग के मैदान में अपनी काबिलियत को पक्का कर रहा है. 

अपने देश में इस गुट की ताकत लेबनान की सेना से ज्यादा है और अपने सहयोगियों के साथ अब यह संसद और सरकार में भी पहले से बहुत ज्यादा ताकतवर हो गया है.

हालांकि तमाम नारों के बावजूद हिज्बुल्लाह का कहना है कि वह इस्राएल के साथ एक और युद्ध नहीं चाहता और किसी क्षेत्रीय युद्ध में शामिल नहीं होगा, कम से कम शुरुआती दौर में, जब तक कि उसे उकसाया ना जाए. सीरिया की जंग में हिज्बुल्लाह ने अपने सैकड़ों लड़ाके खोए हैं. जाहिर है कि यह नुकसान शिया समुदाय का है जहां से उसे सबसे ज्यादा समर्थन मिलता है.

हूथी

फाइल

यमन के शिया विद्रोही हूथी के नाम से जाने जाते हैं. हूथी विद्रोहियों ने उत्तर की ओर से जंग छेड़ी और 2014 में राजधानी सना पर कब्जा कर लिया. इसके अगले साल सऊदी अरब के नेतृत्व में एक गठबंधन सेना इस जंग में सरकार की तरफ से उतरी. तब से यह जंग चली आ रही है इसमें दसियों हजार लोगों की मौत हुई है और दुनिया के लिए एक बड़ा मानवीय संकट पैदा हो गया है. 

सऊदी अरब हूथी विद्रोहियों को ईरान के छद्म लड़ाके मानता है. पश्चिमी देशों के साथ संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञों और सऊदी अरब ने आरोप लगाया है कि ईरान ने उन्हें हथियार दिए हैं. इनमें लंबी दूरी तक मार करने वाली मिसाइलों की भी बात कही जाती है जिन्होंने सऊदी अरब की राजधानी रियाद पर भी हमले किए हैं. ईरान विद्रोहियों का समर्थन करता है लेकिन उन्हें हथियार देने के आरोप से इनकार करता है.

सऊदी अरब के नेतृत्व वाले गठबंधन के युद्ध में उतरने के बावजूद हूथियों ने अपने कब्जे की बहुत थोड़ी जमीन ही खोई है. इस हफ्ते की शुरुआत में उन्होंने सऊदी अरब की एक प्रमुख तेल पाइपलाइन पर ड्रोन से हमला किया. सऊदी अरब ने इसका जवाब यमन के हूथी नियंत्रण वाले इलाके में हवाई हमले से दिया. इस हमले में बहुत से आम लोग मारे गए.

इराकी मिलिशिया

फाइल

इराक ने शिया मिलिशिया को 2003 में अमेरिकी हमले के बाद उनसे लड़ने के लिए ट्रेनिंग, पैसा और हथियार दिया. एक दशक बाद यही गुट इस्लामिक स्टेट से लड़ने लगा. इस गुट में असैब अहल अल हक, कातेब हिज्बुल्लाह और बद्र संगठन शामिल हैं. इन तीनों का नेतृत्व ऐसे लोगों के हाथ में है जिनके जनरल कासेम सुलेमानी से करीबी संबंध हैं. सुलेमानी ईरान की एलीट कुद्स फोर्स के कमांडर हैं और तेहरान की क्षेत्रीय नीतियां तैयार करते हैं.

यह मिलिशिया इराक की लोकप्रिय मोबिलाइजेशन फोर्सेज (पीएमएफ) के झंडे के नीचे काम करती है जो मुख्य रूप से शिया मिलिशियाओं का एक संगठन है. इसे देश की सशस्त्र सेना ने 2016 में तैयार किया था. कुल मिला कर इनमें करीब 1 लाख 40 हजार लड़ाके हैं. भले ही यह संगठन औपचारिक रूप से इराकी प्रधानमंत्री के प्रशासन में है लेकिन राजनीतिक रूप से पीएमएफ के लोग ईरान के साथ जुड़े हैं.

इराकी संसद ने 2014 में अमेरिकी सेना को बुलाया और उसके बाद अमेरिकी सेना और पीएमएफ इस्लामिक स्टेट से जंग में मिल कर लड़े. अब जब यह जंग मोटे तौर पर खत्म हो गई है कुछ मिलिशिया नेताओं ने अमेरिकी सेना से बाहर जाने को कहा है और उन्हें बार बार खदेड़ने की धमकी दी है. ईरान से बढ़ते तनाव के मद्देनजर इस हफ्ते अमेरिका ने सभी गैरजरूरी सरकारी कर्मचारियों से इराक छोड़ने के लिए कहा. 

गजा चरमपंथी

ईरान फलस्तीनी चरमपंथी गुटों को लंबे समय से समर्थन देता आ रहा है. इसमें गजा का हमास और दूसरे छोटे इस्लामिक जिहादी गुट भी शामिल हैं. 2011 में अरब वसंत के बाद हमास और ईरान में दूरी बढ़ गई, इसका नतीजा हमास को हर महीने लाखों डॉलर के नुकसान के रूप में उठाना पड़ा. आज यह गुट गंभीर आर्थिक संकट में है. इसके कर्मचारी और सार्वजनिक सेवा के लोगों को कई सालों से पूरी तनख्वाह नहीं मिली है.

माना जाता है कि ईरान अब भी इन्हें सैन्य मदद तो दे रहा है लेकिन इस गुट को अब ज्यादा मदद कतर से मिल रही है और ऐसे में उम्मीद कम है कि यह क्षेत्रीय युद्ध की स्थिति में ईरान के साथ जाएगा. सुन्नी चरमपंथियों का गुट इस्लामिक जेहाद ईरान के ज्यादा करीब है लेकिन यह भी हिज्बुल्ला जितना ईरान से हिलामिला नहीं है.

एनआर/एमजे (एपी)

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

जानिए कौन है इस्राएल का जानी दुश्मन हिजबुल्ला

हिजबुल्ला का उदय

हिजबुल्ला का मतलब है अल्लाह का पक्ष. 1982 में दक्षिणी लेबनान पर इस्राएल के हमले के बाद मुस्लिम मौलवियों ने कई शिया हथियारबंद गुटों को मिलाकर हिजबुल्ला की बुनियाद रखी. अब इस शिया गुट के पास न सिर्फ अपनी राजनीतिक पार्टी है बल्कि उसकी सैन्य शाखा भी है.

जानिए कौन है इस्राएल का जानी दुश्मन हिजबुल्ला

इस्राएल का विरोध

लेबनान के गृहयुद्ध में हिजबुल्ला ने बड़ी भूमिका निभाई. उसने दक्षिण लेबनान से इस्राएली फौज को बाहर करने के लिए गुरिल्ला युद्ध का सहारा लिया. इस्राएल 2000 में वहां से हटा. इस्राएल और हिजबुल्ला ने 2006 में भी लड़ाई लड़ी. लेबनान की रक्षा के लिए इस्राएल के खिलाफ खड़े होने की वजह उसे समाज में भरपूर समर्थन मिलता है.

जानिए कौन है इस्राएल का जानी दुश्मन हिजबुल्ला

ईरान की मदद

अपने गठन के बाद से ही हिजबुल्ला को ईरान और सीरिया की तरफ से सैन्य, वित्तीय, और राजनीतिक समर्थन मिलता रहा है. आज हिजबुल्लाह की सैन्य शाखा लेबनान की सेना से कहीं ज्यादा ताकतवर है और उसे क्षेत्र का एक बड़ा अर्धसैनिक बल माना जाता है.

जानिए कौन है इस्राएल का जानी दुश्मन हिजबुल्ला

राजनीतिक ढांचा

1975 से 1990 तक चले लेबनान के गृहयुद्ध के बाद हिजबुल्लाह ने राजनीति पर ध्यान केंद्रित किया. वह लेबनान की शिया आबादी के एक बड़े हिस्से का प्रतिनिधित्व करता है. ईसाई जैसे अन्य धार्मिक समुदायों के साथ उसका गठबंधन है. हसन नसरल्लाह 1992 से हिजबुल्ला के प्रमुख हैं.

जानिए कौन है इस्राएल का जानी दुश्मन हिजबुल्ला

सैन्य शाखा

हिजबुल्ला ने गृह युद्ध खत्म होने के बाद भी अपनी सैन्य शाखा को खत्म नहीं किया. प्रधानमंत्री साद हरीरी के फ्यूचर मूवमेंट जैसे कई राजनीतिक दल चाहते हैं कि हिजबुल्लाह हथियार छोड़ दे. लेकिन हिजबुल्ला की दलील है कि इस्राएल और अन्य चरमपंथी गुटों से रक्षा के लिए उसकी सैन्य शाखा बहुत जरूरी है.

जानिए कौन है इस्राएल का जानी दुश्मन हिजबुल्ला

आतंकवादी संगठन?

अमेरिका, इस्राएल, कनाडा और अरब लीग समेत दुनिया के कई देश और संगठन हिजबुल्लाह को एक आतकंवादी संगठन मानते हैं. हालांकि ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया और यूरोपीय संघ हिजबुल्ला की राजनीतिक गतिविधियों और सैन्य शाखा में अंतर करते हैं.

जानिए कौन है इस्राएल का जानी दुश्मन हिजबुल्ला

सीरिया में हिजबुल्ला

सीरिया के गृहयुद्ध में हिजबुल्ला राष्ट्रपति बशर अल असद का समर्थन कर रहा है. हिजबुल्ला ने सीरिया से हथियारों की सप्लाई के रूट को सुरक्षित बनाया और असद के लिए चुनौती बन रहे सुन्नी चरमपंथी गुटों के खिलाफ लेबनान के आसपास एक बफर जोन बनाया.

जानिए कौन है इस्राएल का जानी दुश्मन हिजबुल्ला

सांप्रदायिकता

हिजबुल्ला सऊदी अरब और ईरान के बीच चलने वाले क्षेत्रीय संघर्ष के केंद्र में रहा है. लेकिन हिजबुल्ला की बढ़ती हुई राजनीतिक और सैन्य ताकत और सीरिया में हस्तक्षेप के कारण लेबनान और पूरे क्षेत्र में शिया-सुन्नी तनाव बढ़ता रहा है.

जानिए कौन है इस्राएल का जानी दुश्मन हिजबुल्ला

इस्राएल के साथ नया विवाद

सीरिया युद्ध के जरिए ईरान और हिजबुल्ला दोनों ने अपने सैन्य और राजनीतिक प्रभाव को बढ़ाया है. इस्राएल इस बात को अपने लिए खतरा समझता है और इसीलिए उसने सीरिया में ईरान और हिजबुल्ला के ठिकानों पर हमले किए हैं. हिजबुल्लाह और इस्राएल के बीच युद्ध की अटकलें भी लग रही हैं.

हमें फॉलो करें