अयोध्या मामले की सुनवाई 29 जनवरी तक टली

सर्वोच्च न्यायालय ने अयोध्या जमीन विवाद मामले की सुनवाई 29 जनवरी तक के लिए टाल दी है. जस्टिस यूयू ललित ने खुद को मामले की सुनवाई कर रही संवैधानिक पीठ से अलग कर लिया है इसलिए अब पीठ का दोबारा गठन होगा.

इससे पहले मुस्लिम पक्षों में से एक की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव धवन ने मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली पीठ के समक्ष कहा कि 1997 में जस्टिस ललित बाबरी मस्जिद राम जन्मभूमि विवाद से संबद्ध एक मामले में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के लिए पेश हुए थे.

उन्होंने पीठ को बताया कि निजी तौर पर उन्हें 2010 के इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले को चुनौती देने वाले मामले की सुनवाई के लिए गठित पीठ में जस्टिस ललित की उपस्थिति से कोई आपत्ति नहीं है. वह बस इस मामले को अदालत के संज्ञान में ला रहे हैं. इसके बाद जस्टिस ललित ने पीठ से जुड़े रहने में अपनी अनिच्छा व्यक्त की. उन्होंने मुख्य न्यायाधीश गोगोई और पीठ के अन्य सदस्यों - जस्टिस एसए बोब्डे, जस्टिस एनवी रमना, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ को यह जानकारी दी.

(अयोध्या: कब क्या हुआ)

अयोध्या: कब क्या हुआ

1528

कुछ हिंदू नेताओं का दावा है कि इसी साल मुगल शासक बाबर ने मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाई थी.

अयोध्या: कब क्या हुआ

1853

इस जगह पर पहली बार सांप्रदायिक हिंसा हुई.

अयोध्या: कब क्या हुआ

1859

ब्रिटिश सरकार ने एक दीवार बनाकर हिंदू और मुसलमानों के पूजा स्थलों को अलग कर दिया.

अयोध्या: कब क्या हुआ

1949

मस्जिद में राम की मूर्ति रख दी गई. आरोप है कि ऐसा हिंदुओं ने किया. मुसलमानों ने विरोध किया और मुकदमे दाखिल हो गए. सरकार ने ताले लगा दिए.

अयोध्या: कब क्या हुआ

1984

विश्व हिंदू परिषद ने एक कमेटी का गठन किया जिसे रामलला का मंदिर बनाने का जिम्मा सौंपा गया.

अयोध्या: कब क्या हुआ

1986

जिला उपायुक्त ने ताला खोलकर वहां हिंदुओं को पूजा करने की इजाजत दे दी. विरोध में मुसलमानों ने बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी का गठन किया.

अयोध्या: कब क्या हुआ

1989

विश्व हिंदू परिषद ने मस्जिद से साथ लगती जमीन पर मंदिर की नींव रख दी.

अयोध्या: कब क्या हुआ

1992

वीएचपी, शिव सेना और बीजेपी नेताओं की अगुआई में सैकड़ों लोगों ने बाबरी मस्जिद पर चढ़ाई की और उसे गिरा दिया.

अयोध्या: कब क्या हुआ

जनवरी 2002

तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने दफ्तर में एक विशेष सेल बनाया. शत्रुघ्न सिंह को हिंदू और मुस्लिम नेताओं से बातचीत की जिम्मेदारी दी गई.

अयोध्या: कब क्या हुआ

मार्च 2002

गोधरा में अयोध्या से लौट रहे कार सेवकों को जलाकर मारे जाने के बाद भड़के दंगों में हजारों लोग मारे गए.

अयोध्या: कब क्या हुआ

अगस्त 2003

पुरातात्विक विभाग के सर्वे में कहा गया कि जहां मस्जिद बनी है, कभी वहां मंदिर होने के संकेत मिले हैं.

अयोध्या: कब क्या हुआ

जुलाई 2005

विवादित स्थल के पास आतंकवादी हमला हुआ. जीप से एक बम धमाका किया गया. सुरक्षाबलों ने पांच लोगों को गोलीबारी में मार डाला.

Indien Babri Masjid Moschee in Ayodhya (AP)

अयोध्या: कब क्या हुआ

2009

जस्टिस लिब्रहान कमिश्न ने 17 साल की जांच के बाद बाबरी मस्जिद गिराये जाने की घटना की रिपोर्ट सौंपी. रिपोर्ट में बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया गया.

अयोध्या: कब क्या हुआ

सितंबर 2010

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि विवादित स्थल को हिंदू और मुसलमानों में बांट दिया जाए. मुसलमानों को एक तिहाई हिस्सा दिया जाए. एक तिहाई हिस्सा हिंदुओं को मिले. और तीसरा हिस्सा निर्मोही अखाड़े को दिया जाए. मुख्य विवादित हिस्सा हिंदुओं को दे दिया जाए.

अयोध्या: कब क्या हुआ

मई 2011

सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसले को निलंबित किया.

अयोध्या: कब क्या हुआ

मार्च 2017

रामजन्म भूमि और बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि दोनों पक्षों को यह विवाद आपस में सुलझाना चाहिए.

इसके बाद मुख्य न्यायाधीश गोगोई ने कहा कि उन्हें सर्वोच्च न्यायालय के नियमों के तहत अपनी प्रशासनिक शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए पीठ का चयन करना अधिकार है.

अदालत ने इसके बाद अपनी रजिस्ट्री से अयोध्या मामले में सभी संबंधित सभी रिकॉर्डों पर गौर करके 29 जनवरी तक रिपोर्ट दाखिल करने को कहा. इस मामले से जुड़े दस्तावेजों और सामग्री के अनुवाद में कुछ समय भी लगेगा. ज्यादातर दस्तावेज फारसी, अरबी उर्दू और गुरमुखी भाषाओं में हैं.

हिंदू पक्ष की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने कागजातों के प्रबंधन और उनके अनुवाद के लिए रजिस्ट्री की मदद करने की पेशकश की. इस पर गोगोई ने कहा कि वह इस काम को पूरा करने के लिए पूरी तरह से अपनी रजिस्ट्री पर भरोसा करेंगे.

सर्वोच्च न्यायालय के महासचिव को 15 दिनों में रिपोर्ट जमा कराने के निर्देश के बाद अदालत ने कहा कि दोबारा गठित पीठ 29 जनवरी को इस मामले की सुनवाई करेगी.

आईएएनएस


हमें फॉलो करें