आखिरी वोटिंग के साथ मतगणना की तैयारियां शुरू

जोश के साथ भारत में आखिरी चरण के मतदान के लिए वोट जारी है. रविवार को मैराथन लोकसभा चुनावों के आखिरी चरण में 10.1 करोड़ मतदाता 59 सीटों के लिए अपने नुमाइंदों का चुनाव कर रहे हैं.

बनारस के एक होटल में काम करने वाले पंकज तिवारी रात की ड्यूटी खत्म करने के बाद करीब 120 किलोमीटर लंबी यात्रा पर निकल पड़े हैं. वह उत्तर प्रदेश की सीमा से सटे बिहार के सासाराम इलाके से आते हैं. रविवार को तिवारी वोट देने सासाराम जा रहे हैं, मतदान के बाद वह वापस बनारस लौटेंगे और फिर रात की ड्यूटी करेंगे. कुछ ऐसा ही उत्साह बनारस के बाकी वोटरों में दिखता है. सुबह मतदान शुरू होने के साथ ही अच्छी खासी संख्या में मतदाता पोलिंग स्टेशनों तक पहुंचने लगे. निर्वाचन आयोग ने कुछ पोलिंग स्टेशनों को मॉडल स्टेशन भी बनाया है, जहां मतदाताओं के लिए वोटिंग के बाद जलपान की व्यवस्था भी की गई है.

लोग, नेता और प्रशासनिक अधिकारी भी चाहते हैं कि बस चुनाव पूरा हो जाए. छह अप्रैल से जारी मतदान की प्रक्रिया की थकान अब दिखने लगी है. 19 मई को आखिरी चरण के मतदान में उत्तर प्रदेश की 13, बिहार की आठ, झारखंड की तीन, मध्य प्रदेश की आठ, हिमाचल प्रदेश की सभी चार, पंजाब की 13 और पश्चिम बंगाल की नौ सीटों के लिए वोट डल रहे हैं. इसी चरण में चंडीगढ़ की एक मात्र सीट के लिए मतदान हो रहा है.

आखिरी चरण के मतदान में 918 उम्मीवारों की किस्मत का फैसला होगा. इस दौरान ज्यादातर लोगों की निगाहें वाराणसी पर लगी हैं, जहां से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद दूसरी बार चुनावी मैदान में हैं. 2014 के लोकसभा चुनावों में मोदी 5,81,022 वोटों के साथ सबसे आगे रहे. उस वक्त दूसरे नंबर पर आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल थे. उन्हें 2,09,238 वोट मिले थे. इस बार दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल चुनाव मैदान में नहीं हैं.

वाराणसी में मुकाबला एकतरफा बताया जा रहा है. बनारस में मोदी का सामना कांग्रेस के उम्मीदवार अजय राय, एसपी-बीएसपी गठबंधन की उम्मीदवार शालिनी यादव से है. अपराध जगत से गहरा नाता रखने वाले अतीक अहमद भी निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में मैदान में हैं.

2014 के चुनावों में बीजेपी ने पूर्वी उत्तर प्रदेश की सभी 13 सीटें जीती थीं. 12 में बीजेपी के उम्मीदवार जीते जबकि मिर्जापुर सीट बीजेपी के सहयोगी दल ने जीती. लेकिन इस बार 13 में से पांच सीटों पर मुकाबला कड़ा है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का गढ़ मानी जाने वाली गोरखपुर सीट फंसी हुई है. बीजेपी 1989 से यह सीट जीतती आई है, लेकिन 2018 के उपचुनावों में इस सीट पर बीजेपी की हार हुई.

इस बीच चुनाव आयोग ने 23 मई को होने वाली मतगणना की तैयारियां शुरू कर दी हैं. 90 फीसदी लोकसभा सीटों के लिए बनाए गए मतगणना केंद्रों को सीधे चुनाव आयोग की वेबसाइट से जोड़ दिया गया है. आखिरी चरण की वोटिंग पूरी होने के बाद सभी सीटों के मतगणना केंद्रों को इससे जोड़ दिया जाएगा. काउटिंग के दौरान असिस्टेंट रिटर्निंग अफसर सीधे अपने काउंटिंग स्टेशन से चुनाव आयोग की वेबसाइट पर रिजल्ट अपलोड करेंगे.

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

ईवीएम यानी इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन होती क्या है और कैसे काम करती है, जानिए यहां. 

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

पहली बार इस्तेमाल

1982 में केरल विधानसभा के उपचुनावों में पहली बार 50 मतदान केंद्रों में ईवीएम का इस्तेमाल किया गया. यह एक टेस्ट फेज था. फिर 1998 में 16 विधानसभा क्षेत्रों में ईवीएम लगाई गईं. इनमें से पांच मध्य प्रदेश में, पांच राजस्थान में और छह दिल्ली में थीं. ये मशीनें 1989 से 1990 के बीच बनाई गई थीं. साल 2000 के बाद से तीन लोकसभा चुनावों में ईवीएम का इस्तेमाल हो चुका है.

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

इंटरनेट से लेना देना नहीं

भारत में इस्तेमाल होने वाली वोटिंग मशीनें वाईफाई या किसी भी तरह के नेटवर्क से जुड़ी नहीं होती हैं और ना ही एक मशीन दूसरी से कनेक्टेड होती है. चुनाव आयोग के अनुसार इस वजह से इन पर हैकिंग का खतरा नहीं रहता है. हर मशीन अपने आप में एकल डिवाइस है. एक मशीन के खराब होने का पूरी चुनावी प्रक्रिया पर कोई असर नहीं होता.

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

माइक्रो चिप का कमाल

वोटिंग का सारा डाटा एक माइक्रो चिप में सुरक्षित होता है. इस चिप के साथ ना तो कोई छेड़छाड़ की जा सकती है और ना ही रीराइट किया जा सकता है. यही ईवीएम को फूल प्रूफ भी बनाता है. लेकिन बावजूद इसके 2014 के लोकसभा चुनावों में धांधली के आरोप लगते रहे हैं. हालांकि इन्हें सिद्ध नहीं किया जा सका है.

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

कैसे काम करती है?

जिस किसी ने ईवीएम इस्तेमाल किया है या फिर उसकी तस्वीर देखी है, वह समझ सकता है कि हर पार्टी के निशान के सामने एक बटन होता है. एक व्यक्ति एक ही बार बटन दबा सकता है. इसके बाद मशीन लॉक हो जाती है. बार बार बटन दबाने से वोटिंग दोबारा नहीं होती है.

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

मशीन के दो हिस्से

हर मशीन में एक बैलेटिंग यूनिट होती है और एक कंट्रोल यूनिट. बैलेटिंग यूनिट के जरिए मतदाता अपना वोट देता है और कंट्रोल यूनिट के जरिए पोलिंग अधिकारी मशीन को लॉक करता है. मतदान पूरा होने के बाद जो लॉक का बटन दबाया जाता है, उसके बाद मशीन कोई डाटा नहीं स्वीकारती.

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

कुल कितने वोट?

एक ईवीएम में अधिकतम 3,840 वोट जमा किए जा सकते हैं. मतदान केंद्रों की योजना इस तरह से बनाई जाती है कि एक केंद्र में 1400 से ज्यादा मतदाताओं को आने की जरूरत ना पड़े. इस तरह से लोगों को घंटों लंबी लाइनों में नहीं लगना पड़ता है. और इसका मतलब यह भी है कि हर मशीन बूथ की क्षमता से दोगुना से भी ज्यादा लोगों के वोट जमा कर सकती है.

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

कितनी लंबी सूची?

एक मशीन में 16 उम्मीदवार दर्ज किए जा सकते हैं. लेकिन अगर उम्मीदवारों की सूची इससे लंबी हो तो एक और मशीन को साथ में जोड़ा जा सकता है. इसी तरह अगर 32 में भी सूची पूरी ना हो रही हो तो एक तीसरी और चौथी मशीन को भी कनेक्ट किया जा सकता है. लेकिन ईवीएम की सीमा 64 है यानी पांचवीं मशीन को नहीं जोड़ा जा सकता. वैसे, अब तक इसकी जरूरत भी नहीं पड़ी है.

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

क्या वोट हो जाते हैं ट्रांसफर?

वोटिंग मशीन हो या फिर बैलेट पेपर, पार्टी के निशान किस क्रम में लगाए जाएंगे ये इस पर निर्भर करता है कि नामांकन कब दाखिल किया गया था और कब उसकी जांच पूरी हुई. इस प्रक्रिया को पहले से निर्धारित नहीं किया जा सकता. इसलिए पहले से किसी के लिए भी पार्टी के क्रम को जानना और मशीन को उस हिसाब से सेट करना संभव नहीं होता.

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

कहां कौन सी मशीन?

कौन सी मशीनें किस मतदान केंद्र में पहुंचेंगी इसकी जानकारी भी गुप्त रखी जाती है. मशीनें दो चरणों में चुनी जाती हैं और वो भी बेतरतीब ढंग से ताकि योजनाबद्ध उन्हें किसी एक केंद्र में ना भेजा जा सके. पहला चरण कंप्यूटर के हाथ में होता है और दूसरा पोलिंग अधिकारी के हाथ में.

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

कैसे चुनते हैं मशीन को?

हर मशीन का एक क्रमांक होता है. इनके आधार पर एक सूची बनाई जाती है. फिर पहले चरण में कंप्यूटर इस सूची में से अनियमित रूप से कुछ मशीनों को चुनता है. इसे फर्स्ट लेवेल रैंडमाइजेशन कहा जाता है. दूसरे चरण में अधिकारी अपने पोलिंग बूथ के लिए कुछ मशीनों को साथ ले कर जाता है. ये सेकंड लेवेल रैंडमाइजेशन कहलाता है.

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

वीवीपैट क्या होता है?

2010 में चुनाव आयोग ने वीवीपैट यानी वोटर वेरिफाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल की शुरुआत की. इसके तहत वोट डालने के बाद हर मतदाता को उम्मीदवार के नाम और चुनाव चिह्न वाली एक पर्ची मिलती है ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि वोट सही डला है. वीवीपैट का इस्तेमाल पहली बार 2013 में नागालैंड के उपचुनाव में हुआ. जून 2014 में चुनाव आयोग ने इसे 2019 लोकसभा चुनावों में हर पोलिंग बूथ पर लागू करने का आदेश दिया.

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

कितने देश करते हैं इस्तेमाल?

दुनिया भर के 31 देशों में ईवीएम का इस्तेमाल हो चुका है. लेकिन भारत के अलावा केवल ब्राजील, भूटान और वेनेजुएला ही देश भर में इनका इस्तेमाल कर रहे हैं. जर्मनी, नीदरलैंड्स और पराग्वे में इनका इस्तेमाल शुरू किया गया और फिर रोक लगा दी गई. जर्मनी और नीदरलैंड्स के अलावा इंग्लैंड और फ्रांस में भी ईवीएम का इस्तेमाल नहीं होता है. हालांकि वहां इस पर रोक नहीं लगाई गई है.

वोट देने से पहले जान लें कैसे काम करती है ईवीएम

ईवीएम से दूरी

2009 में जर्मनी की एक अदालत ने कहा कि कंप्यूटर आधारित इस सिस्टम को समझने के लिए प्रोग्रामिंग की जानकारी होना जरूरी है, जो आम नागरिकों के पास नहीं हो सकती, इसलिए मतदान का यह तरीका पारदर्शी नहीं है. अमेरिका में फैक्स या ईमेल के जरिए ई-वोटिंग की जा सकती है लेकिन मशीनों का इस्तेमाल वहां भी नहीं होता.

हमें फॉलो करें