इतिहास में आजः 14 फरवरी

तीसरी शताब्दी में आज ही के दिन रोम में क्लाउडियस द्वितीय के शासन के दौरान वैलेंटाइन को फांसी पर चढ़ाया गया था. इसी के बाद से दुनिया में वैलेंटाइन्स डे के नाम इसे मनाया जाता है.

रोम में सम्राट क्लाउडियस के क्रूर शासन के दौरान कई अलोकप्रिय और खूनी अभियान चलाए गए. सम्राट को शक्तिशाली सेना को बनाए रखने के लिए काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता था. क्लाउडियस को लगता था कि रोम के लोग अपनी पत्नी और परिवारों के साथ मजबूत लगाव होने की वजह से सेना में भर्ती नहीं हो रहे हैं. इस समस्या से निजात पाने के लिए क्लाउडियस ने रोम में शादी और सगाई पर पाबंदी लगा दी.

लेकिन पादरी वैलेंटाइन ने सम्राट के आदेश को लोगों के साथ नाइंसाफी के तौर पर महसूस किया. सम्राट के आदेश को चुनौती देते हुए वैलेंटाइन चोरी छिपे युवा प्रेमी जोड़ों की शादी कराते थे. जब वैलेंटाइन के काम के बारे में क्लाउडियस को पता चला तो उसने पादरी की हत्या का आदेश जारी किया. वैलेंटाइन को गिरफ्तार कर अदालत के सामने पेश किया गया. अदालत ने वैलेंटाइन को मौत की सजा सुनाई.

देखिए ऐसे लोगों को कम मिलता है प्यार

ऐसे लोगों को कम मिलता है प्यार

ऐसे रह जाते हैं पीछे

स्मार्ट लोग जानते हैं कि पार्टनर चुनते वक्त सिर्फ शक्ल नहीं देखनी चाहिए. तो वे लोग संभावित पार्टनर की हर बात का विश्लेषण करते हैं और रह जाते हैं पीछे.

ऐसे लोगों को कम मिलता है प्यार

वही चाहिए या नहीं चाहिए

जीनियस लोग जानते हैं कि उन्हें क्या चाहिए. उससे कम पर समझौते को वे लोग राजी नहीं होते. इस वजह से उन्हें कभी कमतरी का अहसास नहीं होता. लेकिन वे अकेले रह जाते हैं.

ऐसे लोगों को कम मिलता है प्यार

मोलतोल

जीनियस लोग जानते हैं कि ज्यादातर रिश्ते नाकाम हो जाते हैं. इसलिए वे अक्सर गंभीर रिश्तों के पीछे नहीं भागते. उनके लिए कमिटमेंट थोड़ा मुश्किल हो जाता है.

ऐसे लोगों को कम मिलता है प्यार

जीनियस से नहीं जमती

स्मार्ट लोग स्मार्ट पार्टनर तलाश रहे होते हैं. और अक्सर दो स्मार्ट लोगों की इसलिए नहीं जमती क्योंकि वे एक-दूसरे को लेकर सहज नहीं हो पाते.

ऐसे लोगों को कम मिलता है प्यार

सावधानी ही सुरक्षा

जीनियस लोगों में खतरों को भांपने की क्षमता ज्यादा होती है. किसी से मिलने में, डेटिंग पर जाने में या किसी खास रिश्ते में क्या खतरे हो सकते हैं, वे पहले भांप जाते हैं और पीछे हट जाते हैं.

ऐसे लोगों को कम मिलता है प्यार

कहीं तो होगा

विशेषज्ञ कहते हैं कि ऐसा नहीं है कि ये वजहें लोगों को हतोत्साहित करती हैं. जीनियस लोगों को भी कोई न कोई मिलता जरूर है. देर है पर सवेर भी है. और लोग प्यार से डरते क्यों हैं, जानने के लिए ऊपर लिखे "और" पर क्लिक करें.

14 फरवरी 270 को वैलेंटाइन को मौत की सजा दी गई. ऐसा भी कहा जाता है कि संत वैलेंटाइन ने जेल में रहते हुए जेलर की बेटी को खत लिखा था, जिसमें अंत में उन्होंने लिखा था "तुम्हारा वैलेंटाइन." वैलेंटाइन के प्रेम के संदेश को आज भी लोग दुनिया में जिंदा रखे हुए हैं. वैलेंटाइन को इस महान सेवा के लिए संत की उपाधि दी गई. तब से लेकर हर साल दुनिया भर में 14 फरवरी को वैलेंटाइन्स डे के तौर पर मनाया जा रहा है. इस दिन लोग एक दूसरे को फूल, चॉकलेट और उपहार देकर अपने स्नेह का इजहार करते हैं.

जानिए क्यों होता है प्यार

क्यों होता है प्यार?

पूर्णता का अहसास

प्लेटो ने अपनी किताब ‘सिम्पोजियम’ में कहा कि कभी इंसान की एक टांग होती थी और चार बाहों वाले शरीर पर दो सिर होते थे. फिर उसने ईश्वर को नाराज कर दिया. आसमान में बिजली कड़की. इंसान के दो टुकड़े हो गए. इस तरह आदमी अपने पार्टनर से अलग हो गया. इसलिए उसे पूर्णता के लिए किसी और की जरूरत पड़ती है और प्यार हो जाता है.

क्यों होता है प्यार?

अकेलापन कठोर है

बीसवीं सदी के महान लेखक बर्ट्रेंड रसेल कहते हैं कि इंसान का जन्म हुआ था बच्चे पैदा करने के लिए. लेकिन बिना प्यार के सेक्स संतोष नहीं देता. लेकिन दुनिया से अकेले लड़ना, अकेले ही जिंदा रहने का संघर्ष करना डराता है. प्यार उस डर से बचाता है. उस डर से बचने के लिए ही लोग प्यार करते हैं.

क्यों होता है प्यार?

कुदरत की चालाकी

18वीं सदी के दार्शनिक आर्थर शोपेनहावर के मुताबिक इच्छाएं ही इंसान को सोचने की ताकत देती हैं. लेकिन यह सब कुदरत की चालाकी है. इच्छाओं से प्यार होता है. दो इंसान मिलते हैं और बच्चे पैदा करते हैं. फिर वह प्यार ममत्व बनकर बच्चों पर बरसने लगता है. बच्चे पैदा करवाने के लिए कुदरत यह चालाकी करती है.

क्यों होता है प्यार?

प्यार दर्द है

महात्मा बुद्ध कह गए कि लोग प्यार करते हैं इच्छाएं पूरी करने के लिए, लेकिन यह तो दुखों का घर है. किसी से जुड़ाव दुख देता है. बुद्ध कहते हैं कि निर्वाण हासिल करने के लिए तो इच्छाओं के इस समुद्र से निकलना ही होगा. शांति प्राप्त करने के लिए इन सबसे ऊपर उठ जाना होगा.

क्यों होता है प्यार?

जीवन को अर्थ देने के लिए

मशहूर अस्तित्ववादी लेखिका सिमोन द बोभोआ एक अलग ही सिद्धांत देती हैं. उनके मुताबिक प्यार लोगों को एक दूसरे से मिलने और बात करने का मौका देता है. इससे जीवन अर्थपूर्ण हो जाता है. लेखक सार्त्र के प्यार में पागल रहीं सिमोन कहती हैं कि प्यार का मतलब है एक दूसरे का साथ देना, सहयोग करना और वह हासिल करना, जो अकेले हासिल नहीं किया जा सकता.

क्यों होता है प्यार?

अपना अपना प्यार

और शायर जकारिया शाज के अल्फाज में... मोहब्बत हौसला है अपना अपना कहीं मंज़िल किसी का रास्ता है

हमें फॉलो करें