इस साल पाकिस्तान जाएंगे ओबामा

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा इस साल पाकिस्तान दौरे पर जा सकते हैं. हालांकि अभी इस दौरे की कोई तारीख तय नहीं है. उन्होंने गुरुवार को अफगानिस्तान और पाकिस्तान संबंधी विवाद और इस दिशा में प्रगति की समीक्षा की.

ओबामा इस साल पाकिस्तान का दौरा करने की योजना बना रहे हैं. पाकिस्तान अमेरिका का अहम सहयोगी है लेकिन दोनों देशों के रिश्तों में विश्वास की काफी कमी पाई जाती है. यह दौरा भारी सुरक्षा के बीच होगा और इसकी घोषणा काफी से पहले किए जाने की उम्मीद कम है. पाकिस्तान में अमेरिका विरोधी भावनाएं खासी मजबूत हैं. खास कर देश के कबायली इलाकों में होने वाले संदिग्ध अमेरिकी ड्रोन हमलों को लेकर उग्रवादी अमेरिका से बदला लेने की धमकियां देते रहे हैं. इसी के नतीजे में आए दिन में आत्मघाती हमले भी होते हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां ए कुमार

संपादनः ए जमाल

राष्ट्रपति ओबामा ने अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा टीम के सदस्यों, सैन्य व खुफिया अधिकारियों और राजयनिकों के साथ अहम बैठक की. अफगानिस्तान में लगभग एक लाख अमेरिकी सैनिक तैनात हैं जो इस साल जुलाई से वहां से हटना शुरू करेंगे.

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता रॉबर्ट गिब्स ने बताया कि ओबामा को इस बैठक में अफगानिस्तान के विषय में ताजा जमीनी हालात से अवगत कराया गया. इस बैठक में ज्यादातर 2011 में अफगानिस्तान और पाकिस्तान के लिए लक्ष्यों पर ही चर्चा हुई. गिब्स ने कहा, "सुरक्षा के लिहाज से जो भी मूल्यांकन किया गया वह उससे ज्यादा अलग नहीं है जो आपने अफगानिस्तान पाकिस्तान नीति की समीक्षा के सिलसिले में राष्ट्रपति ओबामा से सुना है. प्रगति होती दिख रही है लेकिन हम समझते हैं कि पांसा उलट भी सकता है."

ओबामा ने दिसंबर में अपनी समीक्षा में कहा कि अफगानिस्तान से जुलाई 2011 में अमेरिकी सैनिकों की वापसी शुरू हो जाएगी. लेकिन आला अधिकारी मान रहे हैं कि जुलाई की निर्धारित तारीख से बहुत ही कम सैनिकों को हटाया जाएगा.

ओबामा इस साल पाकिस्तान का दौरा करने की योजना बना रहे हैं. पाकिस्तान अमेरिका का अहम सहयोगी है लेकिन दोनों देशों के रिश्तों में विश्वास की काफी कमी पाई जाती है. यह दौरा भारी सुरक्षा के बीच होगा और इसकी घोषणा काफी से पहले किए जाने की उम्मीद कम है. पाकिस्तान में अमेरिका विरोधी भावनाएं खासी मजबूत हैं. खास कर देश के कबायली इलाकों में होने वाले संदिग्ध अमेरिकी ड्रोन हमलों को लेकर उग्रवादी अमेरिका से बदला लेने की धमकियां देते रहे हैं. इसी के नतीजे में आए दिन में आत्मघाती हमले भी होते हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां ए कुमार

संपादनः ए जमाल

राष्ट्रपति ओबामा ने अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा टीम के सदस्यों, सैन्य व खुफिया अधिकारियों और राजयनिकों के साथ अहम बैठक की. अफगानिस्तान में लगभग एक लाख अमेरिकी सैनिक तैनात हैं जो इस साल जुलाई से वहां से हटना शुरू करेंगे.

व्हाइट हाउस के प्रवक्ता रॉबर्ट गिब्स ने बताया कि ओबामा को इस बैठक में अफगानिस्तान के विषय में ताजा जमीनी हालात से अवगत कराया गया. इस बैठक में ज्यादातर 2011 में अफगानिस्तान और पाकिस्तान के लिए लक्ष्यों पर ही चर्चा हुई. गिब्स ने कहा, "सुरक्षा के लिहाज से जो भी मूल्यांकन किया गया वह उससे ज्यादा अलग नहीं है जो आपने अफगानिस्तान पाकिस्तान नीति की समीक्षा के सिलसिले में राष्ट्रपति ओबामा से सुना है. प्रगति होती दिख रही है लेकिन हम समझते हैं कि पांसा उलट भी सकता है."

ओबामा ने दिसंबर में अपनी समीक्षा में कहा कि अफगानिस्तान से जुलाई 2011 में अमेरिकी सैनिकों की वापसी शुरू हो जाएगी. लेकिन आला अधिकारी मान रहे हैं कि जुलाई की निर्धारित तारीख से बहुत ही कम सैनिकों को हटाया जाएगा.

ओबामा इस साल पाकिस्तान का दौरा करने की योजना बना रहे हैं. पाकिस्तान अमेरिका का अहम सहयोगी है लेकिन दोनों देशों के रिश्तों में विश्वास की काफी कमी पाई जाती है. यह दौरा भारी सुरक्षा के बीच होगा और इसकी घोषणा काफी से पहले किए जाने की उम्मीद कम है. पाकिस्तान में अमेरिका विरोधी भावनाएं खासी मजबूत हैं. खास कर देश के कबायली इलाकों में होने वाले संदिग्ध अमेरिकी ड्रोन हमलों को लेकर उग्रवादी अमेरिका से बदला लेने की धमकियां देते रहे हैं. इसी के नतीजे में आए दिन में आत्मघाती हमले भी होते हैं.

रिपोर्टः एजेंसियां ए कुमार

संपादनः ए जमाल

हमें फॉलो करें