कब हुआ किस शब्द का जन्म

शब्दों को सुनकर अकसर मन में सवाल उठता है कि शब्द कहां से आए. कोई शब्द कैसे बना होगा, कैसे बदला होगा? जर्मन में हालांकि शब्दों के इतिहास की परंपरा है, लेकिन अब इसे डिजीटाइज करने की योजना है.

जर्मन भाषा से जुड़े हर सवाल का जवाब डूडेन व्याकरण कोश है जो 1880 से प्रकाशित हो रहा है. थुरिंजिया में एक हाई स्कूल के हेडमास्टर कोनराड डूडेन ने 1872 में पहली बार एक जर्मन ग्रामर का प्रकाशन किया और उसे नाम दिया डूडेन.

1880 में पहली बार जर्मन भाषा के सम्पूर्ण ऑर्थोग्राफिकल ग्रामर का प्रकाशन किया. प्रशा की सरकार ने उसी साल इसे जर्मन भाषा के सही हिज्जे का औपचारिक स्रोत घोषित कर दिया. डूडेन के पहले संस्करण में 28,000 शब्द थे.

अब तक इसके 27 संस्करण निकल चुके हैं. यह 12 वॉल्यूमों में प्रकाशित किया जाता है जिनमें शब्दकोष के अलावा उच्चारण, शब्द व्युत्पत्ति, विदेशी और पर्यायवादी शब्दों के कोष शामिल हैं.

जिंदगी का निचोड़ हैं ये 11 जर्मन कहावतें

जिंदगी का निचोड़ हैं ये 11 जर्मन कहावतें

सुंदर दिखना है तो तकलीफ भी झेलनी होगी

कहावतों के जर्मन विशेषज्ञ भी नहीं जानते कि यह कहावत कहां से आई लेकिन इसका मतलब साफ है: खूबसूरती कुर्बानी मांगती है. लड़कियां मॉडल बनने के लिए भूख बर्दाश्त करती हैं, तो कई लोग शरीर पर टैटू बनवाते हैं. इस सिलसिले में आपने अंग्रेजी की कहावत भी सुनी होगी- "नो पेन, नो गेन."

जिंदगी का निचोड़ हैं ये 11 जर्मन कहावतें

जहाज डूबता है तो चूहे सबसे पहले भागते हैं

पुराने जमाने में जब लोग समंदरी जहाजों में सफर करते थे तो नीचे वाले हिस्से में कोई दरार पड़ने पर चूहे ऊपर आने शुरू हो जाते थे. इससे लोग मानने लगे कि चूहे किसी आने वाले खतरे का संकेत देते हैं. आजकल ये कहावत उन लोगों पर इस्तेमाल की जाती है जो मुश्किल वक्त में किसी संस्था को छोड़ने लगते हैं.

जिंदगी का निचोड़ हैं ये 11 जर्मन कहावतें

मछली हमेशा सिर से सड़ने लगती है

जब मछली मरती है तो उसका सिर सबसे पहले गलना शुरू होता है और इसीलिए बदबू भी सबसे पहले वहीं से आती है. यह कहावत तब कही जाती है जब नेतृत्व ही अपनी बनाई पार्टी या कंपनी की बर्बादी का कारण बनने लगता है. 2000 में जर्मनी के तत्कालीन चांसलर गेरहार्ड श्रोएडर ने एक अन्य पार्टी के मुख्यमंत्री के लिए इस कहावत को इस्तेमाल कर सुर्खियों में ला दिया.

जिंदगी का निचोड़ हैं ये 11 जर्मन कहावतें

इंसान जिस डाल पर बैठा हो उसे नहीं काटता

हिंदी में भी इस कहावत को इस्तेमाल किया जाता है. इससे मिलती जुलती और भी कहावतें हैं जैसे अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मारना या फिर जिस थाली में खाना उसी में छेद करना. मतलब यह है कि इंसान ऐसे कई काम कर लेता है, जिससे उसका खुद का ही नुकसान होता है. यह जर्मन कहावत ऐसा न करने का मशविरा देती है.

जिंदगी का निचोड़ हैं ये 11 जर्मन कहावतें

बोलना चांदी, खामोशी सोना

इस जर्मन कहावत का सार यह है कि जब तक आप मुंह न खोलें तो लोग आपके बारे में कोई अपनी राय नहीं बना सकता. जैसे ही आप बोलते हैं तो आपकी असलियत उजागर हो जाती है. हिंदी में भी इससे कुछ मिलती जुलती कहावतें हैं: एक चुप सौ को हराता है या फिर बंद मुट्ठी लाख की, खुली तो खाक की.

जिंदगी का निचोड़ हैं ये 11 जर्मन कहावतें

एक हाथ दूसरे को धोता है

इस जर्मन कहावत का मतलब यह है कि मुजरिम एक दूसरे की मदद करते हैं. जैसे एक अमीर व्यक्ति भ्रष्ट राजनेता को पैसे देता है. फिर बदले में वह भ्रष्ट राजनेता उस अमीर व्यक्ति को मदद पहुंचाने की कोशिश करता है. पता लगाना मुश्किल है कि मदद कहां खत्म होती है और भ्रष्टाचार कहां से शुरू होता है.

जिंदगी का निचोड़ हैं ये 11 जर्मन कहावतें

छत पर बैठे कबूतर से हाथ में आई चिड़िया भली

हिंदी में हम कहते हैं: भागते भूत की लंगोटी सही. कुछ यही संदेश इस जर्मन कहावत में भी दिया गया है कि जो हाथ में है उसी से संतोष करो और ज्यादा से ज्यादा हासिल करने की उम्मीद नहीं करनी चाहिए. अंग्रेजी में भी मिलती जुलती कहावत है जिसके मुताबिक हाथ में आया एक पक्षी झाड़ पर बैठे दो पक्षियों से बेहतर है.

जिंदगी का निचोड़ हैं ये 11 जर्मन कहावतें

ज्यादा बावर्ची हो तो खाने का सत्यानाश

इस जर्मन मुहावरे का मतलब सीधा सादा है कि बिना नेतृत्व के बहुत सारे लोग जब किसी काम को करने लग जाते हैं तो उसका खराब होना तय मानिए. जर्मनी में देखा जाता है कि किसी काम को भले ही कितने लोग करें लेकिन उन्हें निर्देश कोई एक ही व्यक्ति देता है.

जिंदगी का निचोड़ हैं ये 11 जर्मन कहावतें

शीशे के घर में बैठकर दूसरों पर पत्थर न फेंकें

इस कहावत का मतलब साफ है कि अपने अंदर बुराई होते हुए दूसरे को बुरा भला नहीं कहना चाहिए. हो सकता है यह कहावत पढ़ कर आपको 'वक्त' फिल्म में राजकुमार का यह डायलॉग याद आ रहा हो - "चिनॉय सेठ, जिनके अपने घर शीशे के हों, वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते!"

जिंदगी का निचोड़ हैं ये 11 जर्मन कहावतें

झूठ के पांव छोटे होते हैं

यह मुहावरा कई भाषाओं में पाया जाता है. छोटे पांव से यह मतलब बिल्कुल नहीं है कि छोटे कद के लोग ज्यादा झूठ बोलते हैं, बल्कि इसका अर्थ यह है कि झूठ ज्यादा देर तक नहीं चल पाता है. एक तरह से यह लोगों को नसीहत भी है कि झूठ न बोलें, क्योंकि पोल खुलने में देर नहीं लगती है.

जिंदगी का निचोड़ हैं ये 11 जर्मन कहावतें

हर शख्स अपनी किस्मत खुद बनाता है

इस कहावत का शाब्दिक अर्थ यह है कि हर व्यक्ति अपनी किस्मत को खुद गढ़ता है. मतलब जितनी ज्यादा मेहनत आप करेंगे उतनी बेहतर आपकी किस्मत बनेगी. हिंदी में भी हम अक्सर कहते हैं हर इंसान अपनी किस्मत खुद लिखता है.

इस साल के शुरू से जर्मन भाषा डिजीटल लेक्सिकोग्राफी सेंटर ने काम करना शुरू किया है. इस सेंटर का काम एक डिजीटल सूचना सिस्टम बनाना है जिसमें अतीत और वर्तमान के जर्मन शब्दों का व्यापक वर्णन किया जाएगा. यह सेंटर बर्लिन, गोएटिंगन, लाइपजिग और माइंस की विज्ञान अकादमियों ने मिलकर किया है.

Podcasting & Feeds | 13.12.2010

सोशल मीडिया के जमाने में शब्द हथियार बन गए हैं. इनका इस्तेमाल लोगों को शिक्षित करने के अलावा उनको प्रभावित करने में भी किया जा रहा है. शब्दों को किस तरह उसके परिपेक्ष्य में देखा जाए, इसके लिए उसकी व्युत्पत्ति के बारे में जानना जरूरी है.

लोकतंत्र में रियासत या प्रजा जैसे शब्दों का इस्तेमाल दिखाता है कि प्रशासन में जनता और नागरिक की भूमिका को नकारा जा रहा है या नकारने की भीतरखाने कोशिश हो रही है. इसलिए भाषा के व्यापक स्वरूप पर शोध और प्राप्त जानकारी को लोगों के लिए उपलब्ध कराना न सिर्फ वैज्ञानिक बल्कि सामाजिक महत्व का काम है.

शब्दों के इतिहास, उनके सही रूप, उनके इस्तेमाल, उच्चारण, व्याकरण और क्षेत्रीय इस्तेमाल पर जानकारी न सिर्फ भाषा और साहित्य के अध्येताओं के लिए महत्वपूर्ण है बल्कि पत्रकारों, अनुवादकों, शिक्षकों और जर्मन भाषा में दिलचस्पी रखने वाले विदेशी अध्येताओं के लिए भी. सन 1600 से मौजूदा समय तक प्रचलित जर्मन शब्दों पर ये जानकारियां इंटरनेट पर खुले तौर पर बिना किसी शुल्क के उपलब्ध कराई जाएंगी.

मजेदार जर्मन मुहावरे

मजेदार जर्मन मुहावरे

जिंदगी कोई अस्तबल नहीं

जब जिंदगी की कठिनाइयों को आप हल्के में उड़ाते हैं तो जर्मनी में याद दिलाने वाला आपसे यह मुहावरा कह सकता है कि जिंदगी कोई अस्तबल भी नहीं यानी जिंदगी सिर्फ खूबसूरत नहीं है.

मजेदार जर्मन मुहावरे

सारे कप अल्मारी में नहीं

यहां कप और अल्मारी के चक्कर में मत पड़िए. यही बात अगर हिन्दी में कही जाएगा तो कुछ यूं, 'दिमाग ठिकाने पर नहीं है' या फिर स्क्रू ढीला हो गया है.

मजेदार जर्मन मुहावरे

मुझे सिर्फ स्टेशन समझ आता है

इस जर्मन कहावत को सुनकर लग सकता है कि कहने वाले को सिर्फ रेल्वे स्टेशन वाली भाषा बोलता है लेकिन असल में इसका मतलब दुविधा से है. यानि सुनने वाले को कही गई बात समझ नहीं आ रही.

मजेदार जर्मन मुहावरे

मेरी नाक भरी हुई है

इस मुहावरे को कहने वाला जुकाम का मरीज नहीं. उसका मतलब है कि अब बस बहुत हुआ. अब मेरे सब्र की और परीक्षा न लो.

मजेदार जर्मन मुहावरे

जश्न की रात

दफ्तर में लंबे, थकान भरे दिन के बाद जर्मनी में साथी अक्सर जश्न भरी रात की शुभकामनाएं देते हैं. ये शुभकामनाएं आपको अच्छी शाम के लिए दी जाती हैं, काम खत्म होने के बाद.

मजेदार जर्मन मुहावरे

मेरी नजर में यह सॉसेज है

काम खत्म करने के बाद दोस्तों के साथ शाम को बैठे आप अगर यह जुमला कहेंगे तो वे समझ जाएंगे कि आप सॉसेज की बात नहीं कर रहे, बल्कि मतलब है कि आपकी इस मुद्दे पर कोई राय नहीं है.

मजेदार जर्मन मुहावरे

अंगूठे दबाकर

जर्मनी में जब दोस्त गुड लक कहते हैं तो वे इस तरह कहते है.

मजेदार जर्मन मुहावरे

झूठ के पांव छोटे होते हैं

झूठ के सहारे कुछ दूरी तो तय की जा सकती है लेकिन यह बहुत देर तक छुपता नहीं. जाहिर है इस मुहावरे के जरिए भी यही कहने की कोशिश हो रही है.

हमें फॉलो करें