कैथोलिक गिरजे ने पहली बार नियुक्त की चार महिला कंसल्टेंट

कैथोलिक गिरजे के पोप फ्रांसिस ने बिशप सिनोड के महा सचिवालय के लिए छह कंसल्टेंट नियुक्त किए हैं जिनमें पहली बार चार महिलाएं भी हैं. कैथोलिक गिरजे में काफी समय से महिलाओं को पादरी पद पर नियुक्त करने की मांग हो रही है.

पोप फ्रांसिस ने फ्रांस की नन नाताली बेकुआ, इटली की समाजशास्त्री आलेजांड्रा स्मेरिली, स्पेन की पत्रकार मारिया लुइजा बैरसोजा और इटली की समाजविज्ञानी सेसिलिया कोस्टा की नियुक्ति की है. ये जानकारी वैटिकन ने शुक्रवार को दी. चर्च के एक ऑर्डर की सदस्य बेकुआ लंबे समय तक फ्रेंच बिशप कांफ्रेंस के इवांजेलिक सेंटर की प्रमुख थीं. स्मेरिली रोम में अर्थशास्त्र पढ़ाती हैं और वैटिकन प्रशासन में सलाहकार हैं. चारों महिलाएं पिछले साल हुए युवा सम्मेलन में शामिल थीं.

बिशप काउंसिल के सलाहकारों का काम बिशपों की दो आम सभाओं के बीच काउंसिल की मदद करना है. वे आम सभाओं में भाग ले सकते हैं, वहां भाषण दे सकते हैं, लेकिन उन्हें वोट देने का अधिकार नहीं होता. इस साल अक्टूबर में होने वाली आम सभा में अमेजन इलाके पर चर्चा होगी. बिशप सिनोज कैथोलिक गिरजे में पोप की सलाहकारी परिषद है.

पोप पॉल छठे ने 1965 में इसका पहली बार गठन किया था. इसका काम पोप और दुनिया भर के बिशपों के बीच संबंधों को गहरा बनाना और चर्च के आम मामलों में सलाह मशविरा करना है. बिशप सिनोड कैथोलिक चर्च की संवैधानिक संस्था है. इसीलिए एक स्थायी महासचिवालय बनाया गया है जो इसके कामों का निर्देशन करता है. कैथोलिक गिरजे में महिलाओं को पादरी, बिशप या आर्चबिशप जैसे पदों पर नियुक्त नहीं किया जाता.

एमजे/आईबी (केएनडी)

_______________

मसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

कैथोलिक पोप का ऐतिहासिक अरब दौरा

कैथोलिक पोप का ऐतिहासिक अरब दौरा

पोप की सभा

कैथोलिक गिरजे के प्रमुख पोप फ्रांसिस ने अरब प्रायद्वीप का पहला ऐतिहासिक दौरा किया. धार्मिक सद्भाव के अलावा उन्होंने अपने अनुयायियों से धर्मपालन में विनीत रहने की अपील की.

कैथोलिक पोप का ऐतिहासिक अरब दौरा

बड़ा आयोजन

इस्लाम की जन्मस्थली अरब प्रायद्वीप पर कैथोलिक पोप फ्रांसिस ने ईसाई प्रार्थना सभा के सबसे बड़े आयोजन को संबोधित किया.

कैथोलिक पोप का ऐतिहासिक अरब दौरा

भारी स्वागत

पोप फ्रांसिस जब प्रार्थना सभा के लिए जायद स्पोर्ट सिटी स्टेडियम पहुंचे को वहां जमा करीब 135,000 लोगों ने उनका वीवा इल पापा और वी लव यू के साथ स्वागत किया.

कैथोलिक पोप का ऐतिहासिक अरब दौरा

शांति की अपील

पोप फ्रांसिस ने ईसाई और मुस्लिम धार्मिक नेताओं से शांति कायम करने और युद्ध को अस्वीकार करने के लिए साथ मिलकर काम करने की अपील की.

कैथोलिक पोप का ऐतिहासिक अरब दौरा

बड़ी आबादी

संयुक्त अरब अमीरात में 90 लाख लोग रहते हैं जिनमें करीब 10 प्रतिशत ईसाई हैं. वहां बड़ी संख्या में हिंदू और बौद्ध धर्म को मामने वाले लोग भी रहते हैं.

कैथोलिक पोप का ऐतिहासिक अरब दौरा

भारत के ईसाई

संयुक्त अरब अमीरात में रहने वाले करीब 10 लाख ईसाइयों में ज्यादातर भारत और फिलपींस के हैं जो अपना परिवार वापस देश में छोड़कर वहां काम करने गए हैं.

कैथोलिक पोप का ऐतिहासिक अरब दौरा

शेख और पोप

पोप फ्रांसिस के स्वागत के लिए दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम भी पहुंचे थे.

कैथोलिक पोप का ऐतिहासिक अरब दौरा

पोप का स्वागत

स्वागत समारोह के लिए राष्ट्रपति भवन पहुंचने से पहले विमानों ने करतबों के साथ पोप का स्वागत किया.

हमें फॉलो करें