खुद की बेदाग सफाई करेगा पेन्ट

ब्रिटेन और चीन के वैज्ञानिकों ने अपनी सफाई खुद करने वाला एक पेन्ट तैयार किया है. अगर इसे कपड़ों पर लगाया जाए तो कपड़े गंदे ही नहीं होंगे.

सालों तक चमचमाती दीवारें या बेदाग सफाई, ये सुनने में बड़ा अच्छा लगता है लेकिन ऐसा करने के लिए पैसा, मेहनत और वक्त तीनों चाहिए. लेकिन अब लंदन यूनिवर्सिटी कॉलेज के वैज्ञानिकों ने एक ऐसा पेन्ट तैयार किया है जो अपनी सफाई खुद करता है, और इसे हर चीज पर लगाया जा सकता है.

विज्ञान पत्रिका साइंस में छपे लेख के मुताबिक इस पेन्ट को कपड़ों, कागज, कांच और स्टील पर भी चढ़ाया जा सकता है. जिस चीज पर यह पेन्ट लगाया जाएगा उस पर पानी और तेल के जिद्दी दाग भी नहीं टिकेंगे.

क्या है राज

यह पेन्ट टाइटेनियम डायॉक्साइड के नैनोपार्टिकल्स से बना है. इसकी परत बहुत ही जबर्दस्त ढंग से वॉटरप्रूफ का काम करती है. दिलचस्प बात है कि यह रगड़ खाने के बाद भी वॉटर और ऑयलप्रूफ बनी रहती है.

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन की रसायन शास्त्र की प्रोफेसर क्लेयर कारमाल्ट इस रिसर्च का हिस्सा है. कारमाल्ट कहती हैं, "खुद की सफाई करने वाली सतह बनाने में सबसे बड़ी चुनौती यह थी कि पेन्ट को इतना कड़ा बनाया जाए कि वो रोजमर्रा होने वाले नुकसान को सह सके. मैकेनिकली परत कमजोर है और इसे आसानी से रगड़ा जा सकता है. लेकिन अगर इसे अलग गोंद के साथ मिलाया जाए तो खुद की सफाई करने वाली सतह बनाई जा सकती है."

अलग अलग गोंद

वैज्ञानिकों के मुताबिक फिलहाल अलग अलग सतहों के हिसाब से उपयुक्त गोंद खोजा जा रहा है. कांच और स्टील के लिए स्प्रे-गन का सहारा लिया जा रहा है. सूती और ऊन के लिए डिप कोटिंग बेहतर है. कागज पर इसे चढ़ाने के लिए इंजेक्शन का सहारा लिया जा रहा है.

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के रसायन विज्ञान विभाग के याओ लू इसका राज समझाते हैं, "वॉटरप्रूफ होने से मैटीरियल अपनी सफाई खुद कर सकता है. वॉटरप्रूफ सतह पर पानी एक बूंद में बदल जाता है और सतह पर लुढ़कता हुआ एक छोटे वैक्यूम क्लीनर की तरह गंदगी, वायरस और बैक्टीरिया की सफाई करता जाता है."

प्रयोग के दौरान वैज्ञानिकों ने पेन्ट को चाकू से खुरचा भी, लेकिन इसके बावजूद सतह वॉटरप्रूफ बनी रही.

ओएसजे/आरआर (रॉयटर्स)

सफाई करने वाले प्राकृतिक कर्मचारी

छोटे सफाईकर्मी

मैनहैटन की सड़कों पर चूहों को आने से रोकने में फुटपाथ की चीटियां अहम योगदान देती हैं. न्यू यॉर्क में जहां कहीं भी लोग अपना कचरा छोड़ या फिर गिरा देते हैं ये कीड़े उन्हें साफ कर देते हैं. इस वजह से बड़े हानिकारक जीवों के लिए वहां कुछ नहीं बचता है. इस प्रक्रिया की हाल ही में एक वैज्ञानिक अध्ययन में जांच की गई.

सफाई करने वाले प्राकृतिक कर्मचारी

उत्कृष्ट सेवा

चीटियां शहरों को साफ रखती हैं. उत्तरी कैरोलाइना राज्य विश्वविद्यालय की एक वैज्ञानिक कहती हैं, "यह एक सच्ची सेवा है, वे प्रभावी ढंग से कचरा इकट्ठा करती हैं." वे कहती हैं उन्होंने इस चलन की जांच मैनहैटन के पार्कों और सड़कों पर खाद्य अपशिष्ट छोड़कर की, यह देखने के लिए कि कौन सबसे तेजी से उसे खा जाता है.

सफाई करने वाले प्राकृतिक कर्मचारी

सफाई के लिए पूरी टीम

लेकिन सिर्फ चीटियां ही सफाई नहीं करती. इस प्रक्रिया में सभी प्रकार के अन्य रेंगने वाले कीड़े हैं, इनमें मकड़ी और तिलचट्टे भी साथ देते हैं.

सफाई करने वाले प्राकृतिक कर्मचारी

खाकर सफाई

अमेरिकी वैज्ञानिकों के मुताबिक मैनहैटन की प्रसिद्ध सड़कें ब्रॉडवे और वेस्ट स्ट्रीट पर इन कीड़ों की चहलकदमी आसानी से देखी जा सकती है. शोध के मुताबिक वहां कीड़े सालाना एक हजार किलोग्राम फेंका हुआ खाना खा जाते हैं. यह मात्रा करीब 60 हजार हॉट डॉग के बराबर बनती है.

सफाई करने वाले प्राकृतिक कर्मचारी

पार्क दूसरा पसंदीदा स्थान

भोजन जहां होगा वहां कीड़े भी जाएंगे. चीटियां हरे भरे इलाके जैसे सेंट्रल पार्क को छोड़कर सड़कों पर अपना ठिकाना बना लेती हैं. शोधकर्ताओं का कहना है कि मकड़ी और तिलचट्टे की तुलना में चीटियां दो से तीन गुना खाद्य कचरा अकेले साफ करती हैं.

सफाई करने वाले प्राकृतिक कर्मचारी

चूहों के बजाय चीटियां

रीढ़ की हड्डी वाले जानवरों और इन कीड़ों के बीच खाद्य रसद के लिए मुकाबला होता है. और चूहे इस मुकाबले में हार जाते हैं. न्यू यॉर्क वासियों के लिए यह अच्छी खबर है, क्योंकि चूहे इंसानों तक बीमारी फैलाने का काम करते हैं. इसलिए अमेरिकी वैज्ञानिकों ने न्यू यॉर्क शहर को "चीटियों के लिए फ्रेंड्ली शहर" बनाने का सुझाव दिया है.

सफाई करने वाले प्राकृतिक कर्मचारी

सबका अपना हिस्सा

कबूतर, कौवा या फिर गिलहरी सभी अपना हिस्सा चाहते हैं. ज्यादातर फेंका गया खाना बड़े जानवरों के पेट में चला जाता है. उदाहरण के लिए कबूतरों के पास बेहतर आक्रमण वाले विकल्प होते हैं. लेकिन कीड़े भी किसी मामले में कम नहीं. शोध से पता चलता है कि कीड़े कुकीज और चिप्स पसंद करते हैं.

सफाई करने वाले प्राकृतिक कर्मचारी

शानदार भविष्य

अभी भी लगता है कि न्यू यॉर्क निवासी इतनी मात्रा में खाना फेंक देते हैं जो लाखों चीटी, चूहें और कबूतर को खुश करने के लिए काफी है. नगर निगम द्वारा रोजाना 11 हजार टन कचरा उठाया जाता है. और इसमें वो कचरा शामिल नहीं जो कूड़ेदान में नहीं जाता है.

हमें फॉलो करें