गौतम गंभीर ने आतिशी, केजरीवाल को भेजा मानहानि नोटिस

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के पूर्वी दिल्ली के उम्मीदवार गौतम गंभीर ने आम आदमी पार्टी (आप) की अपनी प्रतिद्वंद्वी आतिशी को मानहानि का नोटिस भेजा है. देखिए क्या है पूरा मामला.

आम आदमी पार्टी की नेता आतिशी ने क्रिकेटर से नेता बने गंभीर पर उनके निर्वाचन क्षेत्र में उनके खिलाफ 'आपत्तिजनक और अपमानजक' भाषा वाली पर्चियां बंटवाने का आरोप लगाया था जिसके बाद गंभीर ने मानहानि का नोटिस भिजवाया है. उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को भी नोटिस भिजवाया है.

नौ मई की तारीख वाले नौ पेज के कानूनी नोटिस में गंभीर के खिलाफ दिए गए प्रत्येक बयान को फौरन वापस लेने की बात कही गई है और इस बात से इनकार किया गया है कि पूर्व क्रिकेटर का कथित पर्चियों से कोई संबंध है. इसमें कहा गया है, "स्पष्ट रूप से और पुरजोर तरीके से इस बात से इनकार किया जाता है कि हमारे मुवक्किल का कथित पर्चियों या उसमें निहित विवादास्पद सामग्री से कोई संबंध है, जिसका नौ मई को संवाददाता सम्मलेन में दिए गए बयानों और बाद में सोशल मीडिया पर पूरी तरह दुर्भावना के साथ किए गए ट्वीट्स में जिक्र किया गया है."

नोटिस में कहा गया कि यह आरोप लगाया गया है कि पर्चे हमारे मुवक्किल या उनके कहने पर समन्वित व सोची समझी साजिश के तहत बांटे गए हैं. नोटिस में कहा गया है कि ये आरोप रविवार को होने वाले चुनाव के मद्देनजर लगाए गए हैं. आतिशी ने गुरुवार को गंभीर पर आरोप लगाया था कि उन्होंने उनकी नौतिकता पर सवाल उठाने वाले और आपत्तिजनक टिप्पणी वाले पर्चे बंटवाए हैं.

पर्चे में लिखी बातों को पढ़ने के दौरान आतिशी संवाददाता सम्मेलन में दो बार रो पड़ी और कहा कि उन्हें यह देखकर बहुत तकलीफ हुई. उन्होंने पूछा कि अगर गंभीर जैसे पुरुष चुने जाते हैं तो महिलाएं कैसे सुरक्षित महसूस करेंगी. पूर्वी दिल्ली में गंभीर को आतिशी और कांग्रेस के उम्मीदवार अरविंदर सिंह लवली के खिलाफ खड़ा किया गया है.

--आईएएनएस

Flash-Galerie Commonwealth Games Rajyavardhan Singh Rathore (AP)

खेल के सितारे जो राजनीति में चमके

राज्यवर्धन सिंह राठौर

डबल ट्रैप शूटिंग गेम में 2002 कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक और एथेंस ऑलंपिक में रजत पदक जीतने वाले राज्यवर्धन सिंह राठौर मोदी सरकार में मंत्री हैं. वो जयपुर ग्रामीण से सांसद हैं. 2013 में सेना में कर्नल के पद से रिटायर होने के बाद वो भाजपा में शामिल हो गए. 2019 लोकसभा चुनाव में उनके सामने कृष्णा पूनिया हैं.

खेल के सितारे जो राजनीति में चमके

कृष्णा पूनिया

डिस्कस थ्रोअर कृष्णा पूनिया ने 2008 के ओलंपिक में भाग लिया था. उन्होंने 2010 में दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक जीता था. 2013 में कांग्रेस के टिकट पर सादुलपुर सीट से विधानसभा का चुनाव लड़ा लेकिन हार गईं. 2018 में दोबारा इसी सीट से चुनाव लड़ा और जीत गईं. 2019 लोकसभा चुनाव में वे जयपुर ग्रामीण से राज्यवर्धन राठौर को चुनौती देंगी. (तस्वीर में सबसे बाएं)

खेल के सितारे जो राजनीति में चमके

दिलीप टिर्की

भारतीय हॉकी टीम के पेनल्टी कॉर्नर विशेषज्ञ रहे दिलीप टिर्की अब राजनीति के मैदान में हैं. दिलीप टिर्की बीजू जनता दल से 2012 में राज्यसभा के सांसद बने. वो फिलहाल ओडिशा टूरिस्ट डवलपमेंट सेंटर के चेयरमैन हैं.

खेल के सितारे जो राजनीति में चमके

प्रसून बनर्जी

पश्चिम बंगाल की हावड़ा सदर सीट से दो बार के सांसद प्रसून बनर्जी भारतीय फुटबॉल टीम में रहे हैं. 2013 में हुए उपचुनाव में तृणमूल के टिकट पर जीत दर्ज कर संसद में पहुंचने वाले वो पहले फुटबॉल खिलाड़ी बने.

खेल के सितारे जो राजनीति में चमके

बाइचुंग भूटिया

भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान बाइचुंग भूटिया भी राजनीति में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. 2012 में फुटबॉल से संन्यास के बाद उन्होंने तृणमूल कांग्रेस जॉइन की. 2014 में दार्जिलिंग लोकसभा से चुनाव लड़ा मगर हार गए. 2018 में तृणमूल से अलग होकर हमरो सिक्किम नाम से खुद की पार्टी बनाई है. 2019 में चुनाव मैदान में उतर रहे हैं.

खेल के सितारे जो राजनीति में चमके

एम सी मैरि कॉम

2012 के लंदन ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली और छह बार की मुक्केबाजी विश्व चैंपियन एम सी मैरि कॉम फिलहाल राज्यसभा की सांसद हैं. वो खेल कोटे से राज्यसभा में चुनी गई हैं.

खेल के सितारे जो राजनीति में चमके

लक्ष्मी रतन शुक्ला

आखिर में एक क्रिकेटर जिसे कम लोग जानते होंगे. लक्ष्मी रतन शुक्ला पश्चिम बंगाल सरकार में राज्यमंत्री हैं. वो क्रिकेटर हैं और भारतीय टीम की तरफ से तीन वनडे मैच खेल चुके हैं. इसके अलावा वो आईपीएल में दिल्ली और कोलकाता की टीम से भी खेल चुके हैं. लक्ष्मी हावड़ा उत्तर सीट से 2016 में विधायक बने थे.

हमें फॉलो करें