जर्मन राजदूत की दुलारी साइकिल

जर्मन राजदूत की दुलारी साइकिल

इस्लामाबाद में तैनात जर्मन राजदूत मार्टिन कोएब्लर ने साइकिल की खोज में थोड़ा समय लगाया. वह जर्मन कंपनी पीको की साइकिल खरीदना चाहते थे. आखिरकार उन्हें लाल रंग की पीको बाइक मिल गई. जर्मन कंपनी पाकिस्तान में शोहराब नाम से साइकिल बनाती है.

जर्मन राजदूत की दुलारी साइकिल

यह तस्वीर खुद जर्मन राजदूत कोएब्लर ने ट्वीट की. ट्वीट में उन्होंने लिखा कि आखिरकार रावलपिंडी में मुझे लाल रंग की अपनी पसंदीदा साइकिल मिल ही गई.

जर्मन राजदूत की दुलारी साइकिल

कोएब्लर ने अपनी साइकिल को पूरी तरह पाकिस्तान के रंग में रचने की ठानी. वह हाजी परवेज के पास पहुंचे. परवेज ट्रकों की पेंटिंग के उस्ताद हैं.

जर्मन राजदूत की दुलारी साइकिल

हाजी परवेज ने साइकिल के पैडल कवर को खूबसूरत चित्रों से रंग दिया. चित्र में वही चीजें बनाई गई हैं जो आम तौर पर पाकिस्तान के ट्रकों पर दिखती हैं.

जर्मन राजदूत की दुलारी साइकिल

आम लोगों के बीच में जाने, उनके हुनर की तारीफ करने और परिवहन का पर्यावरण फ्रेंडली माध्यम चुनने के लिए कोएब्लर की कई देशों के लोगों ने तारीफ की. पुणे से लेकर लंदन तक लोगों ने उन्हें बधाई दी.

जर्मन राजदूत की दुलारी साइकिल

जर्मन राजदूत की साइकिल सवारी ने पाकिस्तान की छवि पर भी सकारात्मक असर डाला है. लंबे समय से आतंकवाद और धार्मिक कट्टरता से जूझ रहा पाकिस्तान नई छवि बनाना चाहता है. (रिपोर्ट: बीनिश जावेद/ओएसजे)

पाकिस्तान में तैनात जर्मनी के राजदूत की साइकिल देखकर आप खुशी से चौंक जाएंगे. साइकिल खालिस देसी लगती है.

हमें फॉलो करें