थाइलैंड से फ्रांस, टेम्पो में

थाइलैंड से फ्रांस का लंबा सफर, वो भी एक टेम्पो में, बिना पेट्रोल या डीजल के. जर्मनी और फ्रांस के तीन छात्रों ने दुनिया को स्वच्छ ऊर्जा का संदेश देते हुए, ये जबरदस्त कारनामा कर दिखाया.

70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पश्चिम की ओर यात्रा और पेट्रोल भरवाने की कोई चिंता नहीं. लक्ष्य तक पहुंचने में अब सिर्फ 50 किलोमीटर बचे हैं. थ्री व्हीलर पर बैंकॉक से टुलूस की यात्रा का बीड़ा उठाया है फ्रांस और जर्मनी के तीन स्टूडेंट्स ने.

ग्रुप के कैप्टन कारेन हैं सही शहर तक पहुंचाना उनका काम है. कम्युनिकेशंस इंचार्ज रेमी हैं. वह युवा लोगों से बात कराने में मदद करते हैं. लुडविष ग्रुप के इंजीनियर हैं. जब कोई बैटरी या बैटरी के खर्च के बारे में पूछता है तो उनका जवाब होता है, लुडविष से पूछो.

16 देशों का सफर

बैंकॉक में एक फील्ड सेमेस्टर पूरा करने के बाद इनके दिमाग में एक अजीबोगरीब आइडिया आया और वह प्रोजेक्ट बन गया. दरअसल ये खाली हाथ घर नहीं लौटना चाहते थे. इसलिए 16 देशों से होते हुए 20,000 किलोमीटर का सफर तय कर वापस लौटने की ठानी.

कैसी कैसी साइकिलें

छत वाली साइकिल

बारिश हो रही हो या धूप बहुत तेज हो, तो साइकिल की इस छतरी को खोल लीजिए. स्विट्जरलैंड के रेने वुटिज ने इसे डिजाइन किया है. और अगर मौसम का लुत्फ उठाना हो, तो इसे बंद भी किया जा सकता है.

कैसी कैसी साइकिलें

इलेक्ट्रो साइकिल

हाल के दिनों में बैट्री से चलने वाली साइकिलों की मांग तेजी से बढ़ी है. इसमें साइकिल चलाने से बहुत थकान भी नहीं होती और जरूरत पड़े तो भारी सामान भी ढोया जा सकता है.

कैसी कैसी साइकिलें

साइकिल चार्जर

और बैट्री चार्ज करने के लिए ऐसे स्टेशन बने हैं. जब साइकिल की बैट्री चार्ज करनी हो, तो बस इन स्टेशनों में थोड़ी देर पार्क कर दें. फिर आपकी साइकिल दोबारा तेज रफ्तार से दौड़ने को तैयार रहेगी.

कैसी कैसी साइकिलें

फुर्सत की साइकिल

हॉलैंडराड नाम की यह साइकिल जर्मनी और यूरोप के दूसरे देशों में खूब चलती है. आम तौर पर फुर्सत और आराम के पल इन साइकिलों का ज्यादा इस्तेमाल होता है.

कैसी कैसी साइकिलें

काम की साइकिल

कार के कम इस्तेमाल और पर्यावरण की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पश्चिमी देशों में कई लोग साइकिल से काम पर जाना पसंद करते हैं. ये जनाब पादरी हैं और साइकिल से चर्च जा रहे हैं.

कैसी कैसी साइकिलें

साइकिल के रास्ते

इन रास्तों पर जरा संभल कर. जर्मनी में मोटरकार और गाड़ियों के अलावा पैदल चलने वालों के लिए अलग रास्ता होता है. कहीं कहीं उसका भी आधा हिस्सा साइकिल के लिए. बाएं से साइकिल, दाएं से पैदल.

कैसी कैसी साइकिलें

सीखने की साइकिल

पश्चिमी देशों में बच्चों को कुछ इस तरह साइकिल चलाना सिखाया जाता है. एक बार अभ्यस्त होने के बाद उन्हें छोटी और सुरक्षित साइकिलें दी जाती हैं. उसके बाद, जैसी उनकी मर्जी.

कैसी कैसी साइकिलें

मदद वाली साइकिल

और यह है दो सीटों वाली साइकिल. अगला थक जाए, तो पिछला चलाए. पिछला थक जाए तो अगला.. या फिर मिल जुल कर चलाएं...

कैसी कैसी साइकिलें

रिक्शे वाली साइकिल

भारतीय रिक्शा की तरह ऐसी साइकिलें जर्मनी में खूब लोकप्रिय हो रही हैं. कई शहरों में तो पर्यावरण को बचाने के अभियान के तौर पर भी इनका इस्तेमाल होता है.

कैसी कैसी साइकिलें

मजे की साइकिल

और अगर आराम से लेट कर साइकिल चलाने का मन हो, तो ऐसी साइकिलें भी बाजार में हैं. लेकिन सुरक्षा जरूरी है. हेलमेट जरूर लगाएं.

कैसी कैसी साइकिलें

जीत की साइकिल

और इन्हीं के बीच रेसिंग वाली साइकिल भी. फ्रांस में दुनिया की सबसे बड़ी साइकिल रेस होती हैः टूअर डे फ्रांस.

कारेन कूलाकियां इसका कारण बताते हैं, "हमने थ्री व्हीलर का इस्तेमाल किया क्योंकि यह इलेक्ट्रिक मोबिलिटी और ग्रीन एनर्जी के बारे में जागरूकता फैलाने का अच्छा तरीका था." वे चार महीने सफर पर रहे. टुलूस पहुंचने से पहले यह आखिरी पड़ाव है. इस थ्री व्हीलर को इस यात्रा के लिए खास तौर पर तैयार किया गया था.

रेमी फर्नांडेस डांड्रे कहते है, "ये सौ फीसदी बिजली से चलता है. हालात ठीक हों तो 15 प्रतिशत ऊर्जा सोलर पैनल से आती है. बिजली का बड़ा हिस्सा गाड़ी के नीचे लगी लिथीयम बैटरी से आता है. हमें हर रोज सिर्फ ये करना पड़ता है कि इसे चार्ज कर लें."

आसान नहीं था सफर

लेकिन ये करना अक्सर इतना आसान नहीं होता था. कारेन ने रास्ते में आई मुश्किलों का जिक्र करते हुए कहा, "कुछ जगहों पर, खासकर चीन में, हमें इसे चार्ज करने में कुछ समस्या होती थी. लेकिन शुरू में हमें अपनी गाड़ी के बारे में ठीक से पता भी नहीं था कि बैटरी की क्षमता क्या है. एक बार तो हमें पहाड़ के ऊपर गाड़ी को धक्का देना पड़ा क्योंकि बैटरी खत्म हो गई थी."

यह इको रिक्शा इतना हल्का भी नहीं है. इसका वजन 1200 किलोग्राम है. लेकिन असली समस्या टूटी फूटी सड़क और खराब मौसम की वजह से हुई. खासकर ठंड और बरसात से. फिर भी सारी समस्याओं के बावजूद एक बात उन्हें लगातार उत्साहित करती रही. ये था स्थानीय लोगों का प्यार और उनकी मेहमाननवाजी.

दुनिया भर की 12 टैक्सियां

क्रांतिकारी पीला

न्यू यॉर्क की यह टैक्सी दुनिया की सबसे खास है क्योंकि यहीं से पीले रंग की टैक्सी की परंपरा शुरू हुई. हालांकि 1980 के दशक में चेकर्स कैब की यह टैक्सी बनना बंद हो गई. 1999 में ऐसी आखिरी टैक्सी की नीलामी एक लाख 34 हजार डॉलर में हुई.

दुनिया भर की 12 टैक्सियां

गुलाबी सी टैक्सी

अगर इस रंग की टैक्सी में सफर करना है, तो मेक्सिको जाना होगा. वहां मेक्सिको सिटी और पुएबला में महिलाएं गुलाबी टैक्सी चलाती हैं. इनमें सिर्फ महिलाएं या बच्चे सफर कर सकते हैं. इनमें तीज चीजें जरूर होती हैं - जीपीएस, इमरजेंसी और कॉस्मेटिक किट.

दुनिया भर की 12 टैक्सियां

क्यूबा में अमेरिका

यूं तो इन दोनों देशों के रिश्ते जगजाहिर हैं. लेकिन क्यूबा की राजधानी में जहां कहीं भी विंटेज शेवरोले टैक्सी दिखती है, उसे बड़े सम्मान से देखा जाता है. ये टैक्सियां बहुत पुरानी हैं क्योंकि बाद में क्यूबा ने बाहर से कारों के आयात पर रोक लगा दी थी.

दुनिया भर की 12 टैक्सियां

पानी की टैक्सी

करीब 14 किलोमीटर लंबा दुबई का सोता शहर को दो हिस्सों में बांटता है. चूंकि यहां बहुत पुल नहीं हैं, लिहाजा लोगों को पानी की टैक्सी से एक दूसरे तरफ जाना पड़ता है. सिर्फ लकड़ी के छोटे नाव यहां चलते हैं, जिनमें 20 लोग सवार हो पाते हैं. एक तरफ का किराया 22 यूरोसेंट. यह इसे दुनिया की सबसे सस्ती टैक्सी बनाता है.

दुनिया भर की 12 टैक्सियां

पूरी सवारी

डीआर कांगो की राजधानी किनशासा में अधिकतम सवारियों की कोई सीमा नहीं है. अगर टैक्सी बोझ ढोने में सक्षम है, तो जितनी मर्जी सवारी लादो. इस तरह के नजारे देख कर एशिया के कुछ देश भी जेहन में आते हैं, जहां ऑटोरिक्शा पर बेतहाशा सवारियों को लाद लिया जाता है.

दुनिया भर की 12 टैक्सियां

मानव मशीन

रिक्शा की आविष्कार जापान में हुआ और बाद में एशिया के दूसरे देशों में भी यह प्रचलित हुआ. इन दिनों यह दुनिया भर में नजर आता है और कई जगहों पर तो इसमें मोटर फिट कर दिए जाते हैं. लेकिन कोलकाता के रिक्शों पर पाबंदी लगाई गई है, जहां लोगों को खुद दूसरों को खींचना पड़ता था.

दुनिया भर की 12 टैक्सियां

कंबोडिया की टैक्सी

यहां सवारी के कई साधन हैं - रिक्शा से लेकर मोटरसाइकिल टैक्सी और मिनी बस तक. यहां जो पिकअप बस दिख रही है, वह सबसे सस्ते साधनों में है. इसके पीछे काफी जगह होती है. लेकिन हो सकता है कि मुसाफिरों को कोई जानवर सहयात्री के तौर पर मिल जाए.

दुनिया भर की 12 टैक्सियां

चीन की टैक्सी

बड़े बड़े चीनी शहरों में सबसे अच्छा साधन टैक्सी ही है. सिर्फ राजधानी बीजिंग में 66,000 टैक्सियां हैं. लेकिन एक बात का ख्याल रखना होता है कि इनके ड्राइवरों को इंग्लिश नहीं आती. बेहतर है कि आप अपनी मंजिल का नाम चीनी भाषा में लिख लें और वह कागज ड्राइवर को पहुंचा दें.

दुनिया भर की 12 टैक्सियां

बदलेगा लंदन

अगर लंदन के नाम से मेट्रो ट्यूब और काली टैक्सी याद आती है, तो इसे बदलने की तैयारी कर लीजिए. लंदन के मेयर को लगता है कि टैक्सियां मुसाफिरों का बोझ नहीं उठा सकतीं और इसके बदले सिर्फ पर्यावरण के अनुरूप विकल्प उतारे जाएंगे.

दुनिया भर की 12 टैक्सियां

बर्लिन के ड्राइवर

जर्मन राजधानी में 7600 टैक्सियां हैं. इस तस्वीर की तरह बर्लिन के दूसरे हिस्सों में भी टैक्सी भारी संख्या में मिल जाते हैं. इनके ड्राइवर पूरे देश के सबसे अच्छे ड्राइवर माने जाते हैं. लेकिन उनकी बोली जरा क्षेत्रीय पुट के साथ होती है. कई बार तो जर्मन जानने वाले भी चकरा जाते हैं.

दुनिया भर की 12 टैक्सियां

सैलानियों की टैक्सी

अगर पानी के शहर वेनिस जाएं, तो एक बार वहां के गोंडोला में जरूर चढ़ें. इसे सैलानियों की टैक्सी कहते हैं. 40 मिनट का किराया 80 यूरो - करीब 6,500 रुपये.

संदेश से साथ शिक्षा भी

रेमी लोगों के व्यवहार से काफी प्रभावित हुए, "हम दूसरी संस्कृतियों और लोगों के बारे में बहुत सारे नए अनुभवों के साथ वापस लौट रहे हैं. और इस विश्वास के साथ कि इलेक्ट्रिक मोबिलिटी में ही हमारा भविष्य है."

तारीफ की वजह यह है कि एक चार्जिंग के बाद बैटरी 300 किलोमीटर ले जाती है. रास्ते में तीनों छात्र दूसरी यूनीवर्सिटी भी गए, और वहां उन्होंने अपने प्रोजेक्ट के बारे में बताया.

लुडविष मैर्त्स कहते हैं, "मैं समझता हूं कि हम एक अहम संदेश दे रहे हैं. अपनी यात्रा से हमने दिखाया है कि इलेक्ट्रिक गाड़ियों से सफर मज़ेदार हो सकता है और आधी दुनिया के इस टूयर को हमने पर्यावरण की रक्षा के संदेश के साथ भी जोड़ा. मैं समझता हूं कि अपनी यात्रा से हमने बहुत ही अच्छा नतीजा हासिल किया है."

इस तरह के प्रोजेक्ट पर खर्च भी होता है, जो इन तीनों ने चंदे से जुटाया. कुछ प्रायोजकों ने दिया तो कुछ क्राउडफंडिंग से आया. टुलूस पहुंचने के साथ ही यात्रा खत्म हुई. कारेन और लुडविष के लिए यह यात्रा उनके मास्टर थिसिस का एक्पेरिमेंट भी थी. और तीनों के लिए गाड़ियों के वैकल्पिक इंधन के लिए प्रयासों की एक शुरुआत.

आईबी/ओएसजे

रिसाइक्लिंग की मजेदार दुनिया

सुंदर थैला

प्लास्टिक के दोबारा इस्तेमाल को लेकर सबसे ज्यादा परेशानी होती है. लेकिन अगर इसका सही इस्तेमाल कर लिया जाए, तो इस तरह के खूबसूरत थैले बन सकते हैं, जैसे कि जमाइका की एक महिला ने बना डाले.

रिसाइक्लिंग की मजेदार दुनिया

जर्मनी की मिसाल

रिसाइक्लिंग को लेकर जर्मनी बेहद संजीदा मुल्क है. यहां काफी अर्से से कचरे को फेंकने की खास व्यवस्था है. खास तरह का कूड़ा खास बक्से में जाता है. पीला प्लास्टिक का, नीला कागज का और इसी तरह दूसरे रंगों के बक्से.

रिसाइक्लिंग की मजेदार दुनिया

बोतल दो, पैसे लो

रिसाइक्लिंग को लेकर जो कुछ समझदारी वाले कदम हैं, उनमें बोतलों की खरीद के साथ कुछ डिपॉजिट ले लिया जाता है. इस पैसे को उस वक्त वापस किया जाता है, जब बोतल खास बक्सों में वापस किए जाएं.

रिसाइक्लिंग की मजेदार दुनिया

कचरे की छंटाई

जर्मनी जैसे कुछ चुनिंदा देशों में कचरे को लेकर अहम कदम उठाए जाते हैं. इनमें कचरों की छंटाई भी जरूरी है, इसके बाद अलग अलग कचरों को रिसाइक्लिंग के लिए अलग अलग जगहों पर भेजा जाता है.

रिसाइक्लिंग की मजेदार दुनिया

हजारों साल बेकार

अगर प्लास्टिक को बिना सोचे समजे फेंक दिया जाए, तो यह हजारों साल तक यूं ही पड़ी रहती है. लेकिन अगर इसका सही इस्तेमाल कर लिया जाए, तो इस तरह के कटोरे भी तैयार हो सकते हैं.

रिसाइक्लिंग की मजेदार दुनिया

प्लास्टिक ही प्लास्टिक

मौजूदा वक्त में बिना प्लास्टिक के काम नहीं चल सकता. लेकिन भारत और चीन जैसे देशों में इसके निपटारे की सही व्यवस्था नहीं हो पाई है. नतीजा, कई जगहों पर प्लास्टिक के ऐसे ढेर जमा हैं. अगर इनकी सही ढंग से रिसाइक्लिंग की जाए, तो हल निकल सकता है.

रिसाइक्लिंग की मजेदार दुनिया

अपसाइक्लिंग

और सिर्फ रिसाइक्लिंग ही क्यों, अब तो अपसाइक्लिंग का चलन है. यूक्रेन के एक कलाकार ने बेकार कागजों से रोशनी की कुछ ऐसी तस्वीर बना डाली.

रिसाइक्लिंग की मजेदार दुनिया

गत्ते की साइकिल

अगर थोड़ी क्रिएटिविटी दिखाई जाए, तो क्या कुछ नहीं हासिल हो सकता. इस्राएल के इस कलाकार ने गत्ते से पूरी साइकिल तैयार कर दी.

हमें फॉलो करें