नरेंद्र मोदी का हिन्दी प्रेम

हिन्दी दिवस के मौके पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि हिन्दी पारंपरिक और आधुनिक भारत के बीच की कड़ी है. वहीं पिछले सप्ताह हुए हिन्दी सम्मलेन में मोदी का हिन्दी प्रेम अब भी सुर्खियां बटोर रहा है.

इसे प्रधानमंत्री का हिन्दी प्रेम ही मानिए कि वे भोपाल में आयोजित हुए अंतरराष्ट्रीय हिन्दी सम्मेलन में पहुंचे. वैसे तो उनकी मातृभाषा गुजराती है लेकिन वे मानते हैं कि हिन्दी ने ही उन्हें भारत के लोगों से जुड़ने का मौका दिया. उन्हीं के शब्दों में, "मेरी भाषा हिन्दी नहीं, लेकिन मैं सोचता हूं अगर मुझे हिन्दी बोलना न आता, तो मैं लोगों तक कैसे पहुंचता."

इस तरह के सम्मेलन अक्सर भारत से बाहर रहने वाले भारतीयों के लिए एक दूसरे से मिलने का और अपनी धरती से जुड़े रहने का एक जरिया होते हैं. लेकिन इस बार यहां एप्पल, माइक्रोसॉफ्ट और गूगल जैसी बड़ी अंतरराष्ट्रीय कंपनियों की मौजूदगी खास रही. ये सभी कंपनियां हिन्दी और अन्य भारतीय भाषाओं में निवेश कर रही हैं ताकि लोग अपनी भाषा में तकनीक का इस्तेमाल कर सकें. मोदी भी जल्द से जल्द हिन्दी को पूरी तरह डिजिटल कर देना चाहते हैं. वे मानते हैं कि "हम डिजिटल वर्ल्ड से अपनी भाषाओं को जितना अधिक जोड़ेंगे, उतनी ही तेजी से उनका प्रसार होगा."

इसी सिलसिले में वे कुछ दिनों बाद फेसबुक प्रमुख मार्क जकरबर्ग से मिलने अमेरिका भी जा रहे हैं. ट्विटर के माध्यम से मोदी ने ना केवल आमंत्रण के लिए उनका आभार व्यक्त किया, बल्कि बैठक की सही तारीख और समय तक बताया.

हालांकि हिन्दी के प्रति उनके इस स्नेह की कुछ लोग सराहना कर रहे हैं, तो कई इसकी कड़ी आलोचना भी कर रहे हैं. हिन्दी के विकास को सरकारी एजेंडा बता कर क्षेत्रीय पार्टियां इसे राजनीतिक मुद्दे के तौर पर उछाल सकती हैं. लेकिन अगर प्रधानमंत्री की योजना सफल रहती है, तो हिन्दी भविष्य में एक मुख्य अंतरराष्ट्रीय भाषा के रूप में उभर सकती है.

कहां से आए अक्षर

बहुत सारे चित्र

अक्षरों का पहला सबूत चीन में मिलता है जो 1400 ईसापूर्व में बैलों के कंधे पर किसी ने उकेरा था. आज चीनी भाषा में 50,000 अक्षर हैं. अगर इनमें से 3,500 ही सीख लिए जाएं तो किसी लेख का 98 फीसदी हिस्सा पढ़ा जा सकता है. बच्चे इन्हें पूरी तरह सीख पाएं, इसमें कई साल निकल जाते हैं.

कहां से आए अक्षर

अक्षर नहीं चित्र

शुरुआती चित्र इससे कई सदियों पहले मिले थे. 20,000 साल पहले दक्षिणी फ्रांस की लास्कू गुफाओं में 2,000 चित्र मिले जो चट्टानों पर उकेरे हुए थे. ये जानवर और इंसान थे लेकिन अक्षरों जैसा कुछ नहीं था. इसलिए इन चित्रों को अक्षरों का मूल बताया जाता है, जिससे पाषाण काल के इंसान अपना जीवन बताते थे.

कहां से आए अक्षर

कीलाक्षर या अंकन

पहले अक्षर मेसोपोटैमिया यानि आज के इराक में मिले. अंकन की खोज करने वाले ईसापूर्व 3,300 के सुमेरियाई थे. उन्होंने नुकीले पत्थर से एक बोर्ड पर अक्षर उकेरे थे. पहले पैर का चिह्न सिर्फ पंजे के लिए इस्तेमाल हुआ, फिर इसका मतलब जाना हो गया. और जब इसमें ए जैसा एक अक्षर जुड़ा तो उसका मतलब क्रांति हो गया.

कहां से आए अक्षर

जादुई शब्द

मिस्र के लोगों ने अपनी लिपी को मेदू नेत्जेर नाम दिया, अर्थ- ईश्वर के शब्द. आज का शब्द हिएरोग्लिफेन ग्रीक काल का है और इसका मतलब होता है पवित्र टंकण. मिस्र में एक से पांच फीसदी लोग लिखने का काम करते थे. और ये काम बहुत अच्छी नजर से देखा जाता था.

कहां से आए अक्षर

माया की दुनिया

पुरानी कई लिपियां आज भी नहीं पढ़ी जा सकी हैं. इसका नुकसान स्पेन की माया संस्कृति को झेलना पड़ा. 1562 के बिशप डिएगो डे लांदा ने कई पूजास्थल, तस्वीरें और लिखे हुए दस्तावेज नष्ट करवा दिए. सिर्फ चार पांडुलिपियां बची. पुरातत्ववेत्ता सिर्फ 800 अक्षरों को ही समझ पाए.

कहां से आए अक्षर

लैटिन

रोमन साम्राज्य के साथ ही लैटिन भाषा भी आगे बढ़ी. ये ग्रीक लिपि से विकसित हुई. रोमन लोगों ने अपनी जरूरत के हिसाब से भाषा और लिपि को विकसित किया. और जी, वाय, जैड जैसे अक्षर इसमें जुड़े. मध्ययुग में पहली बार 26वें अक्षर के तौर पर डबल्यू आया. लैटिन अक्षरों का आज भी दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होता है.

कहां से आए अक्षर

रोजमर्रा के अक्षर

दुनिया भर में करीब 100 अक्षर हैं. अरबी लिपि दो तरीके से लिखी जाती है, एक रोजमर्रा के लिए और एक कैलिग्राफी के लिए. हिब्रू भाषा से बिलकुल अलग. कई साल तक यह धार्मिक पुस्तकों की लिपि रही. 1948 में इस्राएल की स्थापना के साथ ये बदला. हीब्रू वहां की अधिकारिक और काम की भाषा बन गई.

कहां से आए अक्षर

क्रांतिकारी खोज

जर्मनी के माएंज संग्रहालय में दुनिया की सबसे पुरानी किताब, बाइबल रखी हुई है. 1452 में योहानेस गुटेनबैर्ग ने प्रिटिंग की खोज की. बाइबल के 200 संस्करण छापने में उन्हें दो साल लगे. अगर छपाई की खोज नहीं होती तो आज स्कूली किताबें भी नहीं मिलती. हवाई के बच्चों को सबसे कम अक्षर सीखने पड़ते हैं. उनकी भाषा में सिर्फ 12 ही अक्षर हैं और एक चिह्न है.

कहां से आए अक्षर

हाथ से मशीन तक

सदियों तक इंसान हाथ से लिखता रहा लेकिन औद्योगिक क्रांति से थोड़ी आसानी हुई. बिलकुल पुरानी कलम इंकपेन में और बॉल पेन में बदली. फिर टाइपिंग मशीन आई और अब कंप्यूटर. धीरे धीरे सुलेख और हाथ से लिखने की परंपरा खत्म होती जा रही है.

कहां से आए अक्षर

21वीं सदी में स्वागत

अब प्रिटिंग की कला भी कंप्यूटर ने खत्म कर दी है. बहुत कुछ लिख कर आप आराम से कंप्यूटर की हार्ड डिस्क, पेन ड्राइव में सुरक्षित रख सकते हैं. कंप्यूटर के बाइनरी कोड ने अक्षरों की दुनिया बदल दी. शून्य और एक से प्रोग्रामर को समझना पड़ता था कि कंप्यूटर पर कौन सा अक्षर दिखाई देगा.

कहां से आए अक्षर

साक्षरता सभी के लिए

हर तरह की तकनीक के आ जाने के बावजूद आज भी शिक्षा और साक्षरता सबके लिए उपलब्ध नहीं है. दुनिया भर में 77 करो़ड़ 40 लाख लोग ऐसे हैं जो लिख और पढ़ नहीं सकते, खासकर भारत और अफ्रीका में. इनमें महिलाओं की हालत और खराब है. 1966 से हर आठ सितंबर को वैश्विक साक्षरता दिवस मनाया जाता है.

हमें फॉलो करें