निर्भया कांड: तीन साल में हमने क्या सीखा?

दिल्ली गैंग रेप मामले को तीन साल पूरे हो गए. इन तीन सालों में हमने क्या सीखा? क्या इन तीन सालों में कुछ भी बदल पाया है? पूछ रही हैं ईशा भाटिया.

जब आप विदेश में रहते हैं, तो लोगों के सामने आप ही को अपने देश का प्रतिनिधित्व करना पड़ता है. अखबारों में खबरें पढ़ने के बाद लोग आपसे ही पूछने आते हैं कि खबर में कितनी सच्चाई है. तीन साल पहले जब निर्भया का मामला सामने आया, तब कभी टैक्सी वाले ने, तो कभी सब्जी वाले ने पूछा कि ये आपके यहां क्या चल रहा है. दुनिया भर में मीडिया ने सड़कों पर हुए प्रदर्शनों की तस्वीरें दिखाईं. रेप और मर्डर की जो खबरें कभी लोकल अखबारों के छठे या आठवें पन्ने पर छपा करती थीं, अब वे अंतरराष्ट्रीय अखबारों के पहले पेज पर दिखने लगी थीं. आज तीन साल बाद भले ही वे धीरे धीरे खिसकती हुई तीसरे, पांचवें, सातवें या नवें पेज पर पहुंच गयी हों लेकिन आज भी लोगों के वो सवाल वहीं के वहीं हैं.

एक नजर आंकड़ों पर

हाल ही में देश में अपराध दर पर एक रिपोर्ट आई है जो बताती है कि पिछले दस साल में नाबालिगों द्वारा किए गए संज्ञेय अपराधों में 50 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. जहां 2003 में नाबालिगों द्वारा किए गए अपराध के 17,819 मामले दर्ज किए गए, वहीं 2014 में यह संख्या बढ़ कर 38,586 हो गयी. दस साल पहले रेप के 466 मामले सामने आए थे, जबकि पिछले साल दर्ज हुए मामलों में 2,144 बलात्कार के हैं. अकेले दिल्ली में ही संख्या 140 रही.

ईशा भाटिया

इन बढ़ते आंकड़ों को ले कर अक्सर कहा जाता है कि अपराध दर नहीं, रिपोर्ट दर्ज कराने वालों की संख्या बढ़ी है. अगर इसे मान भी लिया जाए, तो क्या यह कहना ठीक होगा कि अभी तक हमने सिर्फ अपराध की रिपोर्ट करना ही सीखा है, उससे निपटना, उसे समाज से हटाना नहीं? जिनके साथ अपराध हो रहा है वे जागरूक हो रहे हैं, लेकिन प्रशासन का क्या?

भारत के युवा का सच

इस बात पर ध्यान देना बेहद जरूरी है कि अधिकतर नाबालिग अपराधियों की उम्र 16 से 18 के बीच है. निर्भया के साथ दुष्कर्म करने वाला एक लड़का भी इसी उम्र का था. आज, तीन साल बाद उसकी रिहाई की बात चल रही है. चार दिन बाद उसे एक एनजीओ के सुपुर्द कर दिया जाएगा. कुछ लोग उम्मीद जता रहे हैं कि वह एक अच्छे नागरिक में तब्दील होगा, तो कुछ अपराधी को छोड़ दिए जाने पर नाराज हैं. इस उम्मीद और इस नाराजगी के बीच बहस लगातार जारी है.

भारत की लगभग 40 फीसदी आबादी 18 की उम्र से कम है. हम बहुत गर्व से कहते हैं कि भारत एक युवा देश है, भारत में बहुत संभावनाएं हैं, ये युवा ही भारत को विकासशील से विकसित बनाएंगे. लेकिन ये युवा वर्ग अगर इस तरह से अपराधों से घिरा रहा, तो क्या वाकई ऐसा कुछ मुमकिन हो पाएगा?

बातें करना सीखा है!

पिछले तीन साल में खूब बहस हुई है, कानून बने हैं, फंड दिए गए हैं. ऐसा नहीं है कि कोशिशें नहीं हुई. लेकिन सोच नहीं बदल पाई है. रात को घर से निकलते हुए एक लड़की को जो डर लगता है, वो वैसे का वैसा है. किसी लड़की को सड़क पर अकेला देख लड़कों का उसे छेड़ना भी नहीं बदला है. बेटी अगर देर तक घर ना लौटे, तो मां बाप के दिल में जो पहला ख्याल आता है, वो भी तो नहीं बदला है.

इन तीन सालों में हमने बातें करना जरूर सीखा है, हमने प्रदर्शन करना सीखा है, कैंडल लाइट मार्च करना सीखा है, फेसबुक पर लंबी लंबी पोस्ट डालना सीखा है, ट्विटर पर हैशटैग इस्तेमाल करना सीखा है. लेकिन समाज को बदलना, अपराध का सफाया करना, क्या ये भी हमने सीखा है?

ब्लॉग: ईशा भाटिया

देश जागा और फिर सो गया

नोबेल शांति पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ट्विटर हैंडल @k_satyarthi से लिखते हैं, "निर्भया की कहानी अभी पूरी नहीं हुई है. हमारी बेटियों के साथ अभी शोषण, बलात्कार और हत्याएं हो रही हैं. क्या आप इस सब पर पूर्ण विराम लगाने के मेरे आह्वान का जवाब देंगे?"

देश जागा और फिर सो गया

एक यूजर ने @Kolkata_Chhori ट्विटर हैंडल से लिखा है, "तुम हमें आज भी याद हो. हमें न्याय चाहिए, ना सिर्फ उसके लिए बल्कि सैकड़ों पीड़ित औरतों के लिए जिनके नाम नहीं हैं."

देश जागा और फिर सो गया

सुधीर चौधरी @sudhirchaudhary ट्विटर हैंडल से लिखते हैं, "क्या बदला है? सिस्टम? मानसिकता? देश एक हफ्ते के लिए जागा और फिर सो गया, किसी भी औरत से पूछ लो!" लोगों का यह भी लिखना है कि क्या गारंटी है कि जुवेनाइल सुधर गया है और बाहर आकर वह समाज के लिए खतरा नहीं साबित होगा.

देश जागा और फिर सो गया

‏एंथनी परमाल ने @anthonypermal ट्विटर हैंडल से लिखा है, "वाह! भारत, तुम अपनी मूर्खता कहीं रोक नहीं सकते, है ना?" उन्होंने ऐसा लिखते हुए नाबालिग दोषी से रिहाई पर अच्छे बर्ताव का कानूनी बॉन्ड भरवाने के गृह मंत्रालय के विचार करने पर टिप्पणी की.

देश जागा और फिर सो गया

राजीव आनंद @SlayerRajiv लिखते हैं, "भारत - ऐसा देश जहां लोग हर बात आसानी से भूल जाते हैं और निंदा की कोशिश करते हैं." नाबालिग दोषी को रिहाई के बाद पुनर्वास के मकसद से दिल्ली सरकार ने सिलाई मशीन और 10 हजार रुपए देने का प्रस्ताव रखा है. इस पर भी लोगों ने भारी गुस्सा जताया.

देश जागा और फिर सो गया

बलात्कार के समय नाबालिग रहे एक दोषी को तीन साल बाद छोड़े जाने का सोशल मीडिया पर जमकर विरोध हुआ. पीड़िता के मां-बाप ने जुवेनाइल को सबसे ज्यादा क्रूर बताते हुए उसका चेहरा सार्वजनिक करने की मांग की थी.

हमें फॉलो करें