परमाणु डील: असली काम तो अब है

ईरान के साथ हुई परमाणु संधि को सब लोग ऐतिहासिक बता रहे हैं. डॉयचे वेले के जमशेद फारूगी का कहना है कि इसके लिए आगे भी काफी मेहनत की जरूरत है ताकि यह समझौता जल्द ही इतिहास न बन जाए.

अच्छी बात यह है कि वियना में आखिरकार सफेद धुंआ दिखा और डील अब पक्की है. लेकिन बुरी खबर यह है कि इस समझौते में अब जान फूंकनी होगी. ये कहना आसान है लेकिन करना नहीं. मुख्य चुनौती उन लोगों को भी संतुष्ट करने की है जो ईरान के साथ परमाणु विवाद में कूटनीति की जीत के खिलाफ हैं. और ऐसे विरोधियों की कमी नहीं है.

फ्रांस के पूर्व विदेशमंत्री कूशनर ने एक बार कहा था: या तो ईरानी बम बनेगा या ईरान पर बमबारी होगी. बेशक दोनों ही अज्ञात नतीजों वाले भयानक विकल्प थे, न सिर्फ ईरान के लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए. वियना की वार्ता ने अब दिखाया है कि ईरान के साथ विवाद को सुलझाने के लिए तीसरा रास्ता भी संभव है. धीरज के साथ कूटनीतिक हल खोजना. सौभाग्य से अब यह रास्ता अपनाया गया है.

सैनिक हल नहीं

हालांकि ईरान के खिलाफ आर्थिक प्रतिबंधों ने असर दिखाया लेकिन कोई हल लेकर नहीं आया. प्रतिबंधों के बावजूद ईरान के हार्डलाइनरों ने और ज्यादा सेंट्रीफ्यूज लगाए, और ज्यादा यूरेनियम का संवर्धन किया और परमाणु प्रयास तेजी से जारी रखे. इसके बाद सिर्फ दो विकल्प थे, दोनों पक्षों के लिए विन विन की स्थिति या सैनिक हस्तक्षेप. अफगानिस्तान और इराक की मिसाल विश्व समुदाय के लिए भयावह थी. इसने साफ साफ दिखाया कि सैनिक विकल्प समाधान से ज्यादा समस्याएं पैदा करते हैं.

डॉयचे वेले के फारसी विभाग के प्रमुख जमशेद फारूगी

दुनिया और खासकर वह इलाका अमेरिका और उनके साथियों के इराक पर हमले के बाद जरा भी सुरक्षित नहीं हुआ. यह दिखाता है कि ईरान के साथ कूटनीति की जीत इतनी जरूरी क्यों थी. आखिर में वियना में सवाल सिर्फ ईरान के परमाणु कार्यक्रम का नहीं रहा. साल दर साल खुले सवालों की सूची बड़ी होती गई. और आखिरकार वार्ता में तकनीकी से ज्यादा महत्वपूर्ण राजनीतिक सवाल थे, इसलिए विदेशमंत्रियों को वार्ता की मेज पर बैठना पड़ा.

महती चुनौती

आज ऐतिहासिक दिन है. न सिर्फ ईरान के लोगों के लिए एक अच्छा दिन बल्कि उनके लिए भी जो विवादों के शांतिपूर्ण समाधान में भरोसा करते हैं. लेकिन यह सिक्के का मात्र एक पहलू है क्योंकि अब दूसरी चुनौतियां सामने हैं. अब अमेरिकी कांग्रेस में रिपब्लिकन पार्टी और इस्राएल लॉबी को राजी करवाना होगा. उनके अलावा ईरान और सऊदी अरब के हार्डलाइनरों को भी. यह सिर्फ कठिन काम ही नहीं है बल्कि असंभव सा लगता है.

अमेरिकी कांग्रेस के पास अब सभी समझौतों की जांच करने के लिए 60 दिन हैं और यह विरोधियों को संधि को गिराने के लिए काफी समय देता है. इस्राएल के प्रधानमंत्री बेंयामिन नेतान्याहू ने समझौते को ऐतिहासिक गलती बताया है. और इस विचार के साथ वे अकेले नहीं हैं. वियना में एक टुकड़ा इतिहास लिखा गया है. अब इस पर अमल के लिए सारी ताकत लगा दी जानी चाहिए, नहीं तो जल्द ही यह समझौता इतिहास बन जाएगा.

यूं हुआ ईरान समझौता

संधि होने तक

18 दिनों की गहमागहम बातचीत के बाद मंगलवार 14 जुलाई को विश्व सत्ताओं और ईरान के बीच परमाणु समझौते की घोषणा हुई. बातचीत में सुरक्षा परिषद के सदस्यों अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, रूस और चीन के विदेश मंत्रियों के अलावा जर्मन विदेश मंत्री और यूरोपीय संघ की विदेशनैतिक दूत भी मौजूद थे.

यूं हुआ ईरान समझौता

वीकएंड में समझौता बहुत करीब था लेकिन कुछ विवाद बाकी थे. अंतिम फैसला विदेश मंत्रियों को लेना था. पी5 प्लस1 देशों के विदेश मंत्री वियना के एक होटल में वार्ता के दौरान अपना रुख तय करने के लिए मिले.

यूं हुआ ईरान समझौता

वियना में संयुक्त राष्ट्र के दफ्तर में ईयू की विदेशनैतिक दूत फेडेरिका मोगेरिनी और ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ ने परमाणु विवाद पर समझौते की घोषणा की. इस्राएल ने इस समझौते को ऐतिहासिक समर्पण बताया है.

यूं हुआ ईरान समझौता

वार्ता में जर्मनी और फ्रांस यूरोपीय संघ का प्रतिनिधित्व कर रहे थे. अंतिम क्षण में हुए ग्रीस समझौते के बाद फ्रांस और जर्मनी के विदेश मंत्री लौरां फाबिउस और फ्रांक वाल्टर श्टाइनमायर ईरान वार्ता के लिए वियना पहुंचे.

यूं हुआ ईरान समझौता

अमेरिका के विदेश मंत्री जॉन केरी वार्ता के दौरान सारा समय वियना में थे. अंतिम दौर से पहले वार्ता की सफलता के लिए उन्होंने जैसे दैवी मदद के लिए सेंट स्टेफान कैथीड्रल में एक प्रार्थना सभा में हिस्सा लिया.

यूं हुआ ईरान समझौता

करीब तीन हफ्ते तक चली वार्ता के दौरान हर शब्द पर सौदेबाजी हुई, दोनों और से कई सारी मांगे रखी गई, उन्हें शब्दों में ढाला गया. ईरानी विदेश मंत्री अपने सहयोगियों के साथ दस्तावेजों पर नजर डालते हुए.

यूं हुआ ईरान समझौता

ऐसा भी समय आया जब लगा कि वार्ता टूट जाएगी. ईरान ने पश्चिमी देशों पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया तो अमेरिका ने वार्ता तोड़ने की धमकी दी. ऐसे ही एक मौके पर बालकनी में विचारमग्न ईरानी विदेश मंत्री.

यूं हुआ ईरान समझौता

लंबी वार्ता के दौरान पत्रकारों की हालत भी बहुत अच्छी नहीं रही. उनके पास रिपोर्ट करने के लिए ज्यादा कुछ नहीं था, लेकिन मीडिया हाउस उनसे हर दिन किसी न किसी नई खबर की उम्मीद कर रहे थे.

हमें फॉलो करें