पीजीए टूर जीतने वाले अर्जुन अटवाल पहले भारतीय

मशहूर गोल्फर अर्जुन अटवाल विंडहेम चैंपियनशिप जीतने के साथ ही अमेरिका में पीजीए टूर जीतने वाले पहले भारतीय और छठे एशियाई खिलाड़ी बन गए हैं. उन्होंने रविवार को अमेरिका के डेविड टॉम्स को हरा कर ये खिताब जीता.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः एस गौड़

अटवाल जापान के इसाओ आओकी, शिगेकी मारुयामा और रियुजी इमादा, दक्षिण कोरिया के केजे चोई, वायई यांग के बाद एशिया के छठें खिलाड़ी हैं जिन्होंने पीजीए टूर जीतने का गौरव हासिल किया है.

अटवाल भारत में जन्मे पहले गोल्फ खिलाड़ी हैं जिन्होंने ये टूर जीता हो. अब वे फ्लोरिडा में रहते हैं. अटवाल ने कहा, "बहुत समय से मेरा ये सपना था कि मैं जीतू लेकिन जब तक ये होता नहीं आप खुद पर शंका करना रहते हैं और मेरा विश्वास कीजिए आज भी मुझे शंका थी, तब भी जब मैं तीन शॉट्स से आगे चल रहा था."

अटवाल ने 14 साल की उम्र में कोलकाता में गोल्फ खेलना शुरू किया था. जीत के बाद उन्होंने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा, "जब तक आप कर नहीं दिखाते, आप नहीं जानते. मेरी स्विंग खेल के दौरान उतनी अच्छी नहीं थी. मुझे पूरा विश्वास है कि मेरा घर पर काफी स्वागत होगा. मेरे सास ससुर ने कल मेरी पत्नी को फोन करके कहा कि खेल का कवरेज असली नहीं लगता. मैं जानता हूं कि भारत और दुबई में कई लोग मेरा खेल देख रहे थे. मुझे काफी संदेश मिले हैं."

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः एस गौड़

अटवाल जापान के इसाओ आओकी, शिगेकी मारुयामा और रियुजी इमादा, दक्षिण कोरिया के केजे चोई, वायई यांग के बाद एशिया के छठें खिलाड़ी हैं जिन्होंने पीजीए टूर जीतने का गौरव हासिल किया है.

अटवाल भारत में जन्मे पहले गोल्फ खिलाड़ी हैं जिन्होंने ये टूर जीता हो. अब वे फ्लोरिडा में रहते हैं. अटवाल ने कहा, "बहुत समय से मेरा ये सपना था कि मैं जीतू लेकिन जब तक ये होता नहीं आप खुद पर शंका करना रहते हैं और मेरा विश्वास कीजिए आज भी मुझे शंका थी, तब भी जब मैं तीन शॉट्स से आगे चल रहा था."

अटवाल ने 14 साल की उम्र में कोलकाता में गोल्फ खेलना शुरू किया था. जीत के बाद उन्होंने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा, "जब तक आप कर नहीं दिखाते, आप नहीं जानते. मेरी स्विंग खेल के दौरान उतनी अच्छी नहीं थी. मुझे पूरा विश्वास है कि मेरा घर पर काफी स्वागत होगा. मेरे सास ससुर ने कल मेरी पत्नी को फोन करके कहा कि खेल का कवरेज असली नहीं लगता. मैं जानता हूं कि भारत और दुबई में कई लोग मेरा खेल देख रहे थे. मुझे काफी संदेश मिले हैं."

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः एस गौड़

हमें फॉलो करें