फेडरर, नडाल की बाढ़ पीड़ितों को सहायता

रोजर फेडरर और राफाएल नाडाल रविवार को मेलबर्न में क्वींसलैंड में बाढ़ से प्रभावित लोगों के लिए धन इकट्ठा करेंगे. एक साल पहले फेडरर ने हैती के भूकंप पीड़ितों के लिए धन जमा करने का अभियान चलाया था.

संपादनः महेश झा

फेडरर और नाडाल के साथ इस अभियान में किम क्लाइस्टर, ब्रिस्बेन में पैदा हुई सैम स्टोसुर, एडलेड के लेटॉन हेविट, दुनिया में तीसरे नंबर के टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच, क्वींसलैंड में रह चुके पैट राफ्टर हैं.

बाढ़ की विभीषिका देखने के बाद उन्होंने तुरंत यह फैसला लिया. फेडरर कहते हैं, "मैं और कई खिलाड़ी बाढ़ की भयावहता से अवाक हैं. हम उन्हें राहत देने के लिए कुछ करना चाहते थे क्योंकि हम जानते थे कई हजार ऑस्ट्रेलियाई नागरिक आगे भी इस बाढ़ से परेशान रहेंगे."

नाडाल ने इस बारे में कहा, "यह दुखद घटना है. जान की हानि के कारण नहीं लेकिन इस बाढ़ में हजारों लोगों के घर तबाह हो गए हैं. मुझे खुशी है कि हम मदद के लिए दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींच सकते हैं और बाढ़ पीड़ितों के लिए पैसा इकट्ठा कर सकते हैं."

हेविट का कहना है, "एक ऑस्ट्रेलियाई की हैसियत से मुझ पर इस आपदा का असर होगा ही. बुरे समय में ऑस्ट्रेलियाई नागरिक साथ रहने की कला जानते हैं. अगर टेनिस जगत के लोग राहत में कुछ मदद कर सकें तो ऑस्ट्रेलिया में भी और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी हमें यह करना चाहिए."

राफ्टर और स्टोसुर ने अधिकारिक तौर पर सिडनी में होने वाले मिडिया बैंक इंटरनेशनल एटीपी-डबल्यूटीए मैचों के दौरान बाढ़ पीड़ितों के लिए धन इकट्ठा करने की घोषणा की. स्टोसुर ने कहा कि उन्हें यह देख कर बहुत अच्छा लगा कि उनके साथी खिलाड़ी, अधिकारी, कोच और फैन्स मदद के लिए तैयार हैं. "हमसे से कई कुछ मदद करना चाहते हैं. मेरा दिल दुखता है जब मैं देखती हूं कि बाढ़ के कारण हजारों लोगों की क्या हालत हो रही है." स्टोसुर हर एस पर 100 डॉलर देने का वादा कर चुकी हैं. वहीं एंडी रोडिक ने हर एस पर ब्रिस्बेन में दो सौ डॉलर का दान दिया. उन्होंने 50 सर्विसेस कीं.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः महेश झा

हेविट का कहना है, "एक ऑस्ट्रेलियाई की हैसियत से मुझ पर इस आपदा का असर होगा ही. बुरे समय में ऑस्ट्रेलियाई नागरिक साथ रहने की कला जानते हैं. अगर टेनिस जगत के लोग राहत में कुछ मदद कर सकें तो ऑस्ट्रेलिया में भी और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी हमें यह करना चाहिए."

राफ्टर और स्टोसुर ने अधिकारिक तौर पर सिडनी में होने वाले मिडिया बैंक इंटरनेशनल एटीपी-डबल्यूटीए मैचों के दौरान बाढ़ पीड़ितों के लिए धन इकट्ठा करने की घोषणा की. स्टोसुर ने कहा कि उन्हें यह देख कर बहुत अच्छा लगा कि उनके साथी खिलाड़ी, अधिकारी, कोच और फैन्स मदद के लिए तैयार हैं. "हमसे से कई कुछ मदद करना चाहते हैं. मेरा दिल दुखता है जब मैं देखती हूं कि बाढ़ के कारण हजारों लोगों की क्या हालत हो रही है." स्टोसुर हर एस पर 100 डॉलर देने का वादा कर चुकी हैं. वहीं एंडी रोडिक ने हर एस पर ब्रिस्बेन में दो सौ डॉलर का दान दिया. उन्होंने 50 सर्विसेस कीं.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः महेश झा

फेडरर और नाडाल के साथ इस अभियान में किम क्लाइस्टर, ब्रिस्बेन में पैदा हुई सैम स्टोसुर, एडलेड के लेटॉन हेविट, दुनिया में तीसरे नंबर के टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच, क्वींसलैंड में रह चुके पैट राफ्टर हैं.

बाढ़ की विभीषिका देखने के बाद उन्होंने तुरंत यह फैसला लिया. फेडरर कहते हैं, "मैं और कई खिलाड़ी बाढ़ की भयावहता से अवाक हैं. हम उन्हें राहत देने के लिए कुछ करना चाहते थे क्योंकि हम जानते थे कई हजार ऑस्ट्रेलियाई नागरिक आगे भी इस बाढ़ से परेशान रहेंगे."

नाडाल ने इस बारे में कहा, "यह दुखद घटना है. जान की हानि के कारण नहीं लेकिन इस बाढ़ में हजारों लोगों के घर तबाह हो गए हैं. मुझे खुशी है कि हम मदद के लिए दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींच सकते हैं और बाढ़ पीड़ितों के लिए पैसा इकट्ठा कर सकते हैं."

हेविट का कहना है, "एक ऑस्ट्रेलियाई की हैसियत से मुझ पर इस आपदा का असर होगा ही. बुरे समय में ऑस्ट्रेलियाई नागरिक साथ रहने की कला जानते हैं. अगर टेनिस जगत के लोग राहत में कुछ मदद कर सकें तो ऑस्ट्रेलिया में भी और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी हमें यह करना चाहिए."

राफ्टर और स्टोसुर ने अधिकारिक तौर पर सिडनी में होने वाले मिडिया बैंक इंटरनेशनल एटीपी-डबल्यूटीए मैचों के दौरान बाढ़ पीड़ितों के लिए धन इकट्ठा करने की घोषणा की. स्टोसुर ने कहा कि उन्हें यह देख कर बहुत अच्छा लगा कि उनके साथी खिलाड़ी, अधिकारी, कोच और फैन्स मदद के लिए तैयार हैं. "हमसे से कई कुछ मदद करना चाहते हैं. मेरा दिल दुखता है जब मैं देखती हूं कि बाढ़ के कारण हजारों लोगों की क्या हालत हो रही है." स्टोसुर हर एस पर 100 डॉलर देने का वादा कर चुकी हैं. वहीं एंडी रोडिक ने हर एस पर ब्रिस्बेन में दो सौ डॉलर का दान दिया. उन्होंने 50 सर्विसेस कीं.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः महेश झा

हमें फॉलो करें