भारत से आई संदिग्ध चिट्ठियों से ग्रीस में हड़कंप

ग्रीस की 12 यूनिवर्सिटियों को भारत के खत भेजे गए. चिट्ठियों में खतरनाक रसायनों का इस्तेमाल किया गया था. ग्रीस ने आतंकवाद के एंगल से मामले की जांच शुरू की.

राजधानी एथेंस समेत पूरे ग्रीस में फैली 12 यूनिवर्सिटियों में भारत से भेजे गए पत्र पहुंचे. खतों में भारत के डाक टिकट लगे हुए हैं. लिफाफे में बंद चिट्ठियों को जब खोला गया तो लोग बीमार पड़ गए. ग्रीस की पुलिस के मुताबिक कुछ चिट्ठियों के बाहर अंग्रेजी में "इस्लामिस्ट कंटेंट" लिखा गया है.

ग्रीस के सिविल प्रोटेक्शन मामलों के महानिदेशालय के मुताबिक, चिट्ठियों में तकलीफ देने वाले रसायनों का इस्तेमाल किया गया है. खतों की स्याही और लिफाफे को चिपकाने वाली गोंद में खुजली और एलर्जी भड़काने वाले तत्वों का इस्तेमाल किया गया है.

एक खत नौ जनवरी को लेसबोस द्वीप की एजियन यूनिर्सिटी पहुंचा. पत्र यूनिवर्सिटी के रेक्टर को भेजा गया था. अधिकारियों के मुताबिक इस खत के संपर्क में आने वाले सात लोग बीमार हो गए. उन्हें सांस लेने में दिक्कत होने लगी. 

मामले की जांच पुलिस के आतंकवाद निरोधी दस्ते को सौंप दी गई है. लैब में किए गए टेस्टों में पता चला कि खतों में इंडस्ट्रियल इरिटेंट का इस्तेमाल किया गया है. सेहत को नुकसान पहुंचाने वाले रसायनों की वजह से ही स्टाफ मेम्बरों को एलर्जी हुई.

इस मामले में अब ग्रीस की जांच एजेंसियां भारतीय अधिकारियों से भी संपर्क करेंगी. इस घटना के कुछ समय पहले ही ऑस्ट्रेलिया में भारत, ब्रिटेन और जर्मनी समेत 25 देशों के उच्चायोगों और दूतावासों में हानिकारक रसायनों से भरे खत भेजे गए थे. ऑस्ट्रेलियाई जांच एजेंसियां रासायनिक हमले के एंगल से मामले की जांच कर रही हैं.

(ये हैं सबसे खतरनाक रासायनिक हथियार)

ये हैं सबसे खतरनाक रासायनिक हथियार

VX

VX बेहद जहरीला रासायनिक मिश्रण है. ऑर्गनोफॉस्फेट क्लास का यह कंपाउंड रंगहीन और गंधहीन द्रव होता है. यह सीधा इंसान के तंत्रिका तंत्र पर हमला करता है. इसका असर सेकेंडों के भीतर होता है. इसकी छोटी सी डोज भी जान लेने के लिये काफी है. VX के शिकार इंसान दम घुटने या हृदय नाकाम होने से मारे जाते हैं.

ये हैं सबसे खतरनाक रासायनिक हथियार

सारीन

सारीन बेहद विषैला रसायन है. इसकी एक बूंद भी एक व्यस्क इंसान को तुरंत मार सकती है. VX की तरह सारीन भी तंत्रिका तंत्र पर हमला करता है. सारीन के संपर्क में आने वाले की मांसपेशियां नाकाम हो जाती है और आखिरकार मौत हो जाती है.

ये हैं सबसे खतरनाक रासायनिक हथियार

मस्टर्ड गैस

इसका असर धीमा लेकिन घातक होता है. मस्टर्ड गैस आंखों, श्वसन तंत्र, त्वचा और कोशिकाओं पर हमला करती है. पहली बार त्वचा से इसका संपर्क होने पर ऐसा लगता है जैसे जला हो. लेकिन कुछ देर बाद बेहद तेज दर्द होने लगता है. यह गैस इंसान को अंधा भी कर सकती है.

ये हैं सबसे खतरनाक रासायनिक हथियार

फॉसजेन

फॉसजेन को अब तक के सबसे घातक रासायनिक हथियारों में गिना जाता है. प्लास्टिक और कीटनाशक बनाने में इस्तेमाल होने वाली फॉसजेन गैस रंगहीन होती है. फॉसजेन से संपर्क में आते ही इंसान की सांस फूल जाती है, कफ बनने लगता है, नाक बहने लगती है.

ये हैं सबसे खतरनाक रासायनिक हथियार

क्लोरीन

क्लोरीन का इस्तेमाल आम तौर पर सफाई, कीटनाशक बनाने, रबर बनाने या फिर पानी को साफ करने के लिए किया जाता है. लेकिन अगर क्लोरीन को ज्यादा मात्रा में इस्तेमाल किया जाए तो ये जानलेवा साबित होती है. यह गैस सीधे फेफड़ों पर हमला करती है और जान लेकर ही छोड़ती है.

ओएसजे/एमजे (रॉयटर्स)

हमें फॉलो करें