यहां 40 की उम्र में आ जाता है बुढ़ापा

छत्तीसगढ़ में एक ऐसा गांव जहां पर युवा 25 वर्ष की आयु में ही लाठी लेकर चलने को मजबूर हो जाते हैं और 40 साल की उम्र आते ही बूढ़े होने लग जाते हैं. आखिर क्यों?

'रहिमन पानी राखिये, बिन पानी सब सून..' रहीम की ये पंक्ति पानी की महत्ता को दर्शाती हैं कि पानी नहीं रहेगा तो कुछ भी नहीं रहेगा, लेकिन जब पानी अमृत के बजाय जहर बन जाए तो पूरा जीवन अपंगता की ओर बढ़ चलता है. यह कोई कहानी नहीं बल्कि हकीकत है. 

बीजापुर जिला मुख्यालय से तकरीबन 60 किमी दूर भोपालपटनम में स्थित छत्तीसगढ़ का एक ऐसा गांव जहां पर युवा 25 वर्ष की आयु में ही लाठी लेकर चलने को मजबूर हो जाते हैं और 40 साल के पड़ाव में प्रकृति के नियम के विपरीत बूढ़े होने लग जाते हैं.

साफ पानी कहां बचा है

साफ पानी अब कहां बचा है?

भूजल में कीटनाशक

बर्लिन के इंस्टीट्यूट फॉर प्रोडक्ट क्वालिटी के मुताबिक खेतों में छिड़के जाने वाले कीटनाशक भूजल तक पहुंच चुके हैं. कीटनाशकों में मौजूद कुछ रसायन कैंसर और ऑटोइम्यून बीमारियां फैला सकते हैं.

साफ पानी अब कहां बचा है?

बेहद ताकतवर बैक्टीरिया

कई तरह की दवाओं को झेलने में सक्षम बैक्टीरिया हॉस्पिटलों और बूचड़खानों के सीवेज के जरिए नदियों और तालाबों तक पहुंच चुके हैं. जर्मनी जैसे विकसित देश में मौजूद सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट भी पानी से इन कीटाणुओं को अलग नहीं कर सकते. एंटीबायोटिक के कम से कम इस्तेमाल से ही कुछ राहत मिल सकती है.

साफ पानी अब कहां बचा है?

माइक्रोप्लास्टिक की भरमार

सड़कों पर टायरों के घिसने और बिखरे प्लास्टिक के टूटने से पानी में सबसे ज्यादा माइक्रोप्लास्टिक घुल रहा है. दुनिया में अब ऐसी बहुत कम जगहें बची हैं जहां माइक्रोप्लास्टिक न घुला हो. समंदरों में तो माइक्रोप्लास्टिक इस कदर है कि समुद्री जीव प्लास्टिक खाकर मारे जा रहे हैं.

Das Schwermetall Tantal

साफ पानी अब कहां बचा है?

पानी के पाइपों में भारी धातुएं

भारत समेत कई देशों में पानी की सप्लाई के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले पाइप सीसे के बने होते हैं. अन्य देशों में भी पाइपों में सीसे, तांबे, लोहे और कैडमियम जैसी धातुएं इस्तेमाल की जाती है. वक्त के साथ साथ ये धातुएं गलती हैं और पानी में घुलती चली जाती हैं.

साफ पानी अब कहां बचा है?

निढाल पड़ते ट्रीटमेंट प्लांट

पानी से ताकतवर कीटाणुओं को अलग करने के लिए नए किस्म के सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट विकसित करने होंगे. मौजूदा ट्रीटमेंट प्लांट पानी में घुले अतिसूक्ष्म माइक्रोप्लास्टिक और नैनो प्लास्टिक को भी अलग नहीं कर पाते हैं.

यहां 40 फीसदी लोग उम्र से पहले ही या तो लाठी के सहारे चलने लगते हैं या तो बूढ़े हो जाते हैं. इसकी वजह कोई शारीरिक दोष नहीं, बल्कि यहां के भूगर्भ में ठहरा पानी है, जो इनके लिए अमृत नहीं, बल्कि जहर साबित हो रहा है. 

यहां के हैंडपंपों और कुओं से निकलने वाले पानी में फ्लोराइड की मात्रा अधिक होने के कारण पूरा का पूरा गांव समय से पहले ही अपंगता के साथ-साथ लगातार मौत की ओर बढ़ रहा है. शुद्ध पेयजल की व्यवस्था नहीं होने के कारण मजबूरन आज भी यहां के लोग फलोराइड युक्त पानी पीने को मजबूर हैं.

इसके बावजूद शासन-प्रशासन मौत की ओर बढ़ रहे इस गांव और ग्रामीणों की ना तो सुध ले रहा है ना ही इस खतरनाक हालात से बचने के लिए कोई कार्ययोजना तैयार करता नजर आ रहा है. इस गांव में आठ वर्ष के उम्र से लेकर 40 वर्ष तक का हर तीसरे व्यक्ति में कुबड़पन, दांतों में सड़न, पीलापन और बुढ़ापा नजर आता है.

प्रशासन ने यहां तक सड़क तो बना दी, लेकिन विडंबना देखिए कि सड़क बनाने वाले प्रशासन की नजर इन पीड़ितों पर अब तक नहीं पड़ पाई. यहां के सेवानिवृत्त शिक्षक तामड़ी नागैया, जनप्रतिनिधि नीलम गणपत और फलोराइड युक्त पानी से पीड़ित तामड़ी गोपाल का कहना है कि गांव में पांच नलकूप और चार कुएं हैं और इन सभी में फलोराइड युक्त पानी निकलता है. लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग ने सभी नलकूपों को सील कर दिया था लेकिन गांव के लोग अब भी दो नलकूपों का इस्तेमाल कर रहे हैं.

उनका कहना है कि हर व्यक्ति शहर से खरीदकर पानी नहीं ला सकता है, इसलिए यही पानी पीने में इस्तेमाल होता है. यही नहीं, बल्कि गर्मी के दिनों में कुछ लोग तीन किमी दूर इंद्रावती नदी से पानी लाकर उबालकर पीते हैं. 

अब लाइव
03:44 मिनट
मंथन | 03.12.2018

पानी में ऐसे घुल रहा है जहर

इनमें से तामड़ी नागैया का कहना है कि यह समस्या पिछले तीस सालों से ज्यादा बढ़ी है, क्योंकि तीस साल पहले तक यहां के लोग कुएं का पानी पीने के लिए इस्तेमाल करते थे, लेकिन जब से नलकूपों का खनन किया गया तब से यह समस्या विराट रूप लेने लगा और अब स्थिति ऐसी है कि गांव की 40 फीसदी आबादी 25 वर्ष की उम्र में लाठी के सहारे चलने, कुबड़पन को ढोने और 40 वर्ष की अवस्था में ही बूढ़े होकर जीवन जीने को मजबूर है. यहां पर लगभग 60 फीसदी लोगों के दांत पीले होकर सड़ने लगे हैं.

बताया जा रहा है कि यह पूरा गांव भूगर्भ में स्थित चट्टान पर बसा हुआ है और यही वजह है कि पानी में फलोराइड की मात्रा अधिक है और इस भूगर्भ से निकलने वाला पानी यहां के ग्रामीणों के लिए जहर बना हुआ है. 

दुनिया के चार सबसे प्यासे देश


दुनिया के सबसे प्यासे चार देश ये हैं

नाइजर

अफ्रीकी देश नाइजर की आबादी लगभग दो करोड़ है जिसमें से आधे लोगों को पीने का साफ पानी मयस्सर नहीं है. वहां हर 10 लोगों में से सिर्फ एक व्यक्ति के पास शौचालय की ठीक ठाक सुविधा है. नाइजर में दुनिया की सबसे ऊंची प्रजनन दर है जहां प्रति महिला सात बच्चों का औसत है. वहां हर साल डायरिया की वजह से 12 हजार से ज्यादा बच्चे मारे जाते हैं.

दुनिया के सबसे प्यासे चार देश ये हैं

पाकिस्तान

पाकिस्तान की दस प्रतिशत आबादी के पास पीने का पर्याप्त साफ पानी नहीं है. देश की आबादी 2.4 प्रतिशत सालाना की रफ्तार से बढ़ रही है. प्रति व्यक्ति पानी की मात्रा वहां दशकों से लगातार घट रही है. 1947 में बंटवारे के वक्त पाकिस्तान में प्रति व्यक्ति पांच हजार क्यूबिक मीटर पानी था जो अब घट कर एक हजार क्यूबिक मीटर रह गया है.

दुनिया के सबसे प्यासे चार देश ये हैं

सोमालिया

सोमालिया में पानी के मौजूदा संकट की सबसे बड़ी वजह वहां सालों से पड़ रहा सूखा है. इससे खेती और खाद्य उत्पादन पर सीधा असर पड़ा है. देश की सिर्फ 45 प्रतिशत आबादी की पीने के पानी के सुरक्षित स्रोतों तक पहुंच है. इससे वहां गंदे पानी से होने वाली बीमारियों खास कर हैजा फैलने का खतरा पैदा हो गया है.

दुनिया के सबसे प्यासे चार देश ये हैं

सूडान

सूडान की आबादी 4.3 करोड़ है और वहां घरेलू इस्तेमाल का सिर्फ दो प्रतिशत पानी ही उपलब्ध है. सूडान का ज्यादातर पानी इथोपिया से आता है और उसकी उलब्धता सिर्फ जलवायु परिवर्तन से नहीं, बल्कि जल प्रबंधन को लेकर इथोपिया की सरकार के फैसलों से भी निर्धारित होती है.

दुनिया के सबसे प्यासे चार देश ये हैं

सूखता पानी

पौलेंड के काटोवित्से में जलवायु सम्मेलन के दौरान जल संकट एक बड़ी चिंता का विषय है. दुनिया की तेजी से बढ़ती जनसंख्या, शहरीकरण और खेती में पानी की बढ़ती मांग के कारण जल आपूर्ति के स्रोतों पर बहुत दबाव है. पर्यावरण कार्यकर्ता तुरंत जल संकट से निपटने के लिए उपायों पर जोर देते हैं.

जानकार बताते हैं कि वन पार्ट पर मिलियन यानि पीपीएम तक फलोराइड की मौजूदगी इस्तेमाल करने लायक है, जबकि पीपीएम को मार्जिनल सेफ माना गया है. डेढ़ पीएम से अधिक फलोराइड की मौजूदगी को खतरनाक माना गया है और गेर्रागुड़ा में डेढ़ से दो पीपीएम तक इसकी मौजूदगी का पता चला है और लोगों पर इसका खतरनाक असर साफ नजर आ रहा है.

इस समस्या से निजात पाने के लिए एक साल पहले पीएचई विभाग ने इस गांव में एक ओवरहेड टैंक का निर्माण कर गांव के हर मकान तक पाइप लाइन विस्तार के साथ नल कनेक्शन भी दे रखा है, लेकिन प्रशासन की लापरवाही के चलते आज तक पाइप लाइन के सहारे घरों में मौजूद नल कनेक्शनों में शुद्ध पेयजल की सप्लाई करने में प्रशासन और विभाग विफल रहे हैं.

इसके चलते गांव के संपन्न लोग किसी तरह भोपालपटनम स्थित वाटर प्लांट से शुद्ध पेयजल खरीदकर पीने में उपयोग तो कर लेते हैं, लेकिन गरीब तबके के लोग अब भी फलोराइड युक्त पानी पीकर जवानी में ही बुढ़ापे को समय से पहले पाने को मजबूर हैं.

अब लाइव
05:17 मिनट
मंथन | 09.11.2018

ग्लोबल वॉर्मिंग: कुंए तक सूख गए

इस मामले में सीएमएचओ डॉ. बीआर पुजारी का कहना है कि ग्रामीणों की शिकायत के बाद गांव में कैम्प लगाकर लोगों का इलाज किया गया था और कुछ लोगों को बीजापुर भी बुलाया गया था. चूंकि इस गांव के पानी में फलोराइड की मात्रा अधिक होने के कारण हड्डियों में टेड़ापन, कुबड़पन और दांतों में पीलेपन के साथ सड़न की समस्या आती है, जिसका इलाज सिर्फ शुद्ध पेयजल से ही हो पाएगा. शिकायत के बाद गांव के अधिकांश हैंडपंपों को सील करवा दिया गया था.

फलोराइड समस्या के निदान के लिए पीएचई की ओर से निर्मित वाटर ओवरहेड टैंक से पेयजल आपूर्ति ना होने की बात पर कार्यपालन अभियंता जगदीश कुमार का कहना है कि विभाग की ओर से टैंक के निर्माण बाद पंचायत को हैंडओवर किया जा चुका है. पेयजल आपूर्ति शुरू करने की जिम्मेदारी अब पंचायत की है, फिर भी अगर पानी की सप्लाई नहीं की जा रही है तो विभाग इसे अवश्य संज्ञान में लेगा.

कुशल चोपड़ा/आईएएनएस

इन वजहों से सूख रहा है भूजल

कोल्ड ड्रिंक

भारत में पानी को कोल्ड ड्रिंक के प्लांट जहां जहां भी लगे, वहां भूजल पर असर पड़ा. बड़ी कंपनियां देश में नियमों के अभाव का फायदा उठा रही हैं.

इन वजहों से सूख रहा है भूजल

फैक्ट्रियां

केवल कोल्ड ड्रिंक ही नहीं, अन्य फैक्ट्रियों का भी भूजल पर बुरा असर पड़ता है. अथाह औद्योगिकीकरण भूजल के गिरते स्तर के लिए जिम्मेदार है.

इन वजहों से सूख रहा है भूजल

खनन

बेहिसाब खनन और खुदाई भी भूजल पर असर डाल रही है. इंसान अपने लालच ले चलते लगातार प्राकृतिक संसाधनों का शोषण कर रहा है.

इन वजहों से सूख रहा है भूजल

शहरीकरण

शहरी इलाकों में अंधाधुंध निर्माण भी भूजल पर असर डाल रहा है. इमारतों के निर्माण के लिए भी पानी की जरूरत है और उनमें रहने वालों के लिए भी.

इन वजहों से सूख रहा है भूजल

कृषि

सिर्फ शहर ही नहीं बढ़ रहे हैं, बल्कि खेती की जमीन कम भी हो रही है. गावों में खेती की जमीन पर अब पक्के घर और बाजार बनने लगे हैं, जिससे जमीन की गुणवत्ता पर असर पड़ रहा है.

इन वजहों से सूख रहा है भूजल

आबादी

शहरों में आबादी का अत्यधिक दबाव जिसका असर अपार्टमेंटों और कॉलोनियों के रूप में नजर आता है. मोटर लगा कर जमीन के नीचे से जबरन पानी खींचा जाता है लेकिन इसके परिणाम के बारे में कोई नहीं सोचता.

इन वजहों से सूख रहा है भूजल

प्राकृतिक आपदा

सूखा और अनियंत्रित बाढ़ दोनों ही भूजल पर असर करते हैं. जमीन के पास पानी को सोखने की एक क्षमता होती है. इसके बाद वह बेकार होने लगती है.

इन वजहों से सूख रहा है भूजल

जंगलों की आग

मोटे तौर पर इसे भी प्राकृतिक आपदा माना जा सकता है लेकिन कहीं ना कहीं जंगलों की आग के लिए इंसान जिम्मेदार होता है. इस तरह की आग के बाद जमीन को सामान्य होने में सालों लग जाते हैं.

इन वजहों से सूख रहा है भूजल

नदियों का जलस्तर

इसमें कमी या बदलाव से आसपास के इलाकों में भूजल पर असर पड़ता है. साल 2025 तक भारत पानी की कमी की चपेट में होगा.

हमें फॉलो करें