रामलिंगा राजू को मिली जमानत

घोटाले में फंसे सत्यम कंप्यूटर के संस्थापक राजू रामलिंगा को आंध्र प्रदेश हाई कोर्ट ने जमानत दे दी है. उन्हें सत्यम कंप्यूटर्स के खातों में धांधली करने के आरोप में 17 महीने पहले गिरफ्तार किया गया था.

7 जनवरी को गिरफ्तार किए गए रामलिंगा राजू का फिलहाल हैदराबाद के एक अस्तपाल में इलाज चल रहा है. उन्हें जमानत इस शर्त पर दी गई है कि वह हैदराबाद में ही रहेंगे. साथ ही उन्हें अदालत में 20-20 लाख रुपये के दो मुलचके भरने पड़े हैं.

जस्टिस राजा एलांगो ने सत्यम कम्प्यूटर के पूर्व चैयरमैन को जमानत दी. सत्यम कंप्यूटर अब महिंद्रा ग्रुप के पास है और इसका नाम महिंद्रा सत्यम रखा गया है. वैसे सीबीआई ने कहा है कि अगर राजू को रिहा कर दिया गया तो वह मामले के 250 गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं. राजू ने पिछले साल कंपनी के बोर्ड से लिखित तौर पर कहा कि उन्होंने खातों हेराफेरी की है.

14 हजार करोड़ रुपये के सत्यम घोटाले मामले में राजू के साथ गिरफ्तार सभी 10 आरोपियों को अलग अलग अदालतों में जमानत मिल गई है. राजू के वकील भरत कुमार ने पत्रकारों को बताया कि अगले आदेश तक राजू हैदराबाद में रही रहेंगे. वकील के मुताबिक राजू जांच में सहयोग दे रहे हैं और आगे भी ऐसा करते रहेंगे.

रिपोर्टः एजेंसियां/आभा एम

संपादनः ए कुमार

हमें फॉलो करें