रोबेन की जांघ में छेद, बायर्न म्यूनिख नाराज

जर्मनी के मशहूर फुटबॉल क्लब बायर्न म्यूनिख को दो महीने तक अपने स्टार खिलाड़ी आर्यन रोबेन के बिना ही काम चलाना होगा. मेडिकल जांच के बाद पता चला है कि नीदरलैंड्स के इस खिलाड़ी की बाईं जांघ की मांसपेशी फट गई है.

बायर्न म्यूनिख के मुताबिक रोबेन की जांघ में 5 सेंटीमीटर का एक छेद हो गया है और यह मामला गंभीर बनता जा रहा है. वर्ल्ड कप से पहले भी उनकी जांघ का इलाज कराया गया लेकिन वह फाइनल मैच तक लगातार खेलते रहे. इस बात से उनका क्लब काफी नाराज है. बायर्न के चेयरमैन कार्ल-हाइंज रूमेनिगे ने म्युनशेनर मेर्कुर अखबार को बताया कि वह काफी निराश हैं.

रूमेनिगे ने कहा, "एक बार फिर हमें एक ऐसे खिलाड़ी के लिए पैसे देने पड़ेंगे जो हमने किसी और को सौंप दिया. मैंने फीफा से इस मामले में दखल देने के लिए कहा है." हालांकि फीफा ने कहा है कि उसके लिए इस मामले में दखल देना मुश्किल है.

26 साल के रोबेन ने भी अपनी चोट पर निराशा जाहिर की है. उन्होंने कहा, "जांच के नतीजों से मुझे धक्का लगा है. औरों की तरह मैं भी इस बात लेकर हैरान और सदमे में हूं कि मुझे इतनी देर तक मैदान से दूर रहना पड़ेगा."

Champions League FC Bayern gegen Olympique Lyon Flash-Galerie

रॉबेन भी अपनी चोट से निराश और हैरान हैं

रोबेन को यह चोट वर्ल्ड कप से पहले हंगरी के खिलाफ एक अभ्यास मैच में लगी. जून की शुरुआत में लगी इस चोट के बाद मिडफील्डर रॉबेन ने गहन इलाज कराया ताकि वर्ल्ड कप से पहले वह फिट हो सकें. उन्होंने पेनकिलर्स भी लिए.

बायर्न के डॉक्टर हांस विलहेम म्युलेर-वोल्फार्ट के मुताबिक रोबेन की चोट गंभीर है. उन्होंने कहा, "मेरी राय में चोट की सही तरह से जांच न करना और रॉबेन को खेलने देना लापरवाही भरा कदम है." क्लब ने दावा किया है कि उन्होंने रोबेन के इलाज के लिए भी अपनी सेवाएं देने का प्रस्ताव रखा लेकिन नीदरलैंड्स ने इसे ठुकरा दिया. डॉक्टर के मुताबिक अब रोबेन को ठीक होने में कम से कम आठ हफ्ते लगेंगे.

रोबेन के मुताबिक, "वर्ल्ड कप में मुझे अच्छा लगा. मैं चार मैचों में खेला और फाइनल में तो 120 मिनट तक खेलने में कामयाब रहा. मुझे कोई दर्द महसूस नहीं हुआ और इसीलिए मैं छुट्टियों पर चला गया."

अब चोट की गंभीरता का मतलब यह है कि रोबेन न सिर्फ बुंडेसलीगा के शुरुआती सीजन में नहीं खेल पाएंगे बल्कि चैंपियंस लीग के पहले ग्रुप मैचों में भी वह नहीं दिखाई देंगे.

रिपोर्टः एजेंसियां/वी कुमार

संपादनः ए कुमार

हमें फॉलो करें