लंदन में कैमरन से सफाई मांगेंगे जरदारी

पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन के सामने अपनी नाराजगी का इजहार करेंगे. पैरिस में जरदारी ने कहा कि पाकिस्तान पर की गई टिप्पणी का जवाब लंदन में खुद कैमरन से मांगा जाएगा.

पाकिस्तान को आतंकवाद की मदद करने वाला देश बताने वाले ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन को अब पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी से मिलना है. फ्रांस के दौरे के बाद जरदारी आज लंदन पहुंच रहे हैं. लेकिन पाकिस्तानी राष्ट्रपति ने नाराजगी और बातचीत का एजेंडा पैरिस में ही साफ कर दिया.

जरदारी के प्रवक्ता फरहातुल्लाह बाबर ने कहा, "भारत में दिए गए कैमरन के आपत्तिजनक बयान से पाकिस्तान के लोगों को निराशा हुई है. राष्ट्रपति अपने दौरे में ब्रिटिश प्रधानमंत्री के सामने यह मुद्दा उठाएंगे."

जरदारी कैमरन को लेकर अपनी निराशा फ्रांस के राष्ट्रपति निकोला सारकोजी के सामने भी इजहार कर गए. सोमवार को दोनों राष्ट्रपतियों की मुलाकात के बाद जरदारी के कार्यालय ने बयान जारी कर कहा, ''अगर कुछ लोग लोग आतंकवाद को खत्म करने की हमारी दृढ़इच्छा पर शक जताते हैं, तो यह दुर्भाग्यपूर्ण है.''

फ्रांस के बाद ब्रिटेन की यात्रा पर जरदारी

इस बीच भारत में बयान देने के बाद ब्रिटेन वापस लौटे प्रधानमंत्री कैमरन ने साफ कर दिया है कि वह अपने बयान पर कोई माफी नहीं मांगेंगे. कैमरन का कहना है कि उन्होंने बेबाक ढंग से अपनी बात कही है. बीते हफ्ते बैंगलोर में कैमरन ने कहा कि, ''पाकिस्तान दोहरी चालें चलते हुए अगर भारत, अफ़गानिस्तान या दुनिया के किसी अन्य हिस्से में आतंकवाद को बढ़ावा देता है तो इसे कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.'' इस बयान के बाद कैमरन कह चुके हैं कि वह हमेशा खुलकर बोलते आए हैं और आगे भी ऐसा ही करते रहेंगे.

कैमरन के माफी न मांगने के बाद पाकिस्तान ने सोमवार को इस्लामाबाद में ब्रिटेन के उच्चायुक्त को तलब किया. पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के प्रमुख पहले ही ब्रिटेन का दौरा रद्द कर चुके हैं. हालात से लग रहा है कि, कैमरन के बयान अब दोनों पक्षों के लिए नाक का सवाल बन गया है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/ओ सिंह

संपादन: आभा एम

हमें फॉलो करें