वीडियो: देश पराया खाना अपना भी पराया भी

क्रिसमस ईसाईयों को अहम त्यौहार है. ईसा मसीह के जन्मदिन के साथ कई रिवाज जुड़े हैं, मुख्य है दोस्तों और परिजनों के साथ खाना. जब संस्कृतियों का मिलन होता है तो एक दूसरे के खानपान से भी सामना होता है.

क्रिसमस के साथ पूरी दुनिया में अलग अलग रिवाज जुड़े हुए हैं और उनमें समय के साथ लगातार परिवर्तन भी हो रहा है. लेकिन कुछ परंपराएं हैं जिन्हें क्रिसमस मनाने के साथ बचाकर रखने की कोशिश की जाती है. उन्हीं में शामिल है इस दिन कुछ खास खाने की संस्कृति. मसलन जर्मनी में इस मौके पर 24 दिसंबर की शाम परिवार के साथ बत्तख या कार्प मछली खाने की परंपरा है. इसके अलावा बच्चों के साथ मिलकर परिवारों में बिस्कुट भी बनाया जाता है जिसे क्रिसमस की छुट्टियों के दौरान खाते हैं.

ये विशेष खाने और पकवान आम तौर पर परिवारों में ही तैयार किए जाते हैं और शाम या दोपहर को खाए जाते हैं. इस बीच कार्प या बत्तख वाले डिश रेस्तरां में भी मिलते हैं और लोग 25 या 26 दिसंबर को दोस्तों या परिजनों के साथ मिलकर खाने जाते हैं. विदेशियों के लिए ये विशिष्ट डिश मजेदार होने के साथ कौतूहल भरे भी होते हैं. इसी कौतुहल को नॉर्वे में अमेरिकी दूतावास के एक वीडियो में दिखाया गया है. देखिए अमेरिकी दूतावास के अधिकारियों की पारंपरिक नॉर्वेजियन व्यंजनों पर क्या प्रतिक्रिया होती है.

नॉर्वे में भी क्रिसमस से एक दिन पहले का दिन त्यौहार का सबसे महत्वपूर्ण दिन होता है जिसे पारिवारिक परंपरा के साथ मनाया जाता है. दोपहर में अधिकांश परिवारों में खीर खाई जाती है. शाम में चर्च के घंटे बजते हैं और लोग प्रार्थना के लिए गिरजे में जाते हैं. खाने में चाप या कॉजफिश और उसके साथ क्रिसमस बीयर और एक्वाविट ड्रिंक. बच्चे लाल लेमोनेड पीते हैं जो सिर्फ क्रिसमस के समय ही मिलता है. और अंत में स्वीट डिश होती है बादाम के साथ क्रीम वाली खीर.

छाई क्रिसमस की धूम

इंपोर्टेड

लाल कोट और सफेद दाढ़ी के साथ सैंटा क्लॉज - पश्चिम अफ्रीका में आइवरी कोस्ट में भी ऐसा ही सैंटा होता है. फर्क सिर्फ इतना है कि यहां सैंटा अश्वेत है. एक आदर्श क्रिसमस की तस्वीर के लिए कृत्रिम बर्फ से सजावट हुई है लेकिन धूप का चश्मा पहने सैंटा और छोटे लड़के को देखकर सही माहौल का अंदाजा होता है.

छाई क्रिसमस की धूम

मासूमियत का रंग सफेद

पूर्वी जर्मनी के सॉर्ब अल्पसंख्यक समुदाय की यह सजावट देखने में थोड़ी अजीब लग सकती है. ऐसा उपहार स्लाविक मूल के इस समुदाय की उस लड़की को दिया जाता है जिसकी जल्दी शादी होने वाली हो या जिसकी अगले साल शादी होनी चाहिए.

छाई क्रिसमस की धूम

मर्दों का काम

जर्मनी में सैक्सनी प्रांत के फिशरबाख इलाके में पिता और पुत्र ही क्रिसमस पेड़ लेकर आते हैं. कुछ लोग क्रिसमस की पूर्व संध्या पर पेड़ लाते हैं तो कुछ दिसंबर की शुरुआत में ही. लेकिन जरूरी है कि उसे रंगीन गेंदों, चमकीली चीजों और मोमबत्तियों के साथ सजाया जाए.

छाई क्रिसमस की धूम

न्यूयॉर्क की चमक

ब्रुकलिन, न्यूयॉर्क की क्रिसमस सजावट में सैंटा क्लॉज के नौ में से तीन रेनडियर तो दिखते ही हैं. यहां की सजावट कहीं ज्यादा रंगीन और तड़क भड़क वाली होती है.

छाई क्रिसमस की धूम

एक दो तीन

कई ब्रिटिश लोगों के लिए लंदन के स्मिथफील्ड मार्केट में मांस की नीलामी एक मेले जैसी है. 24 दिसंबर की सुबह यहां रोज के सॉसेज नहीं बल्कि विशेष रूप से टर्की खरीदने दूर दूर से लोग आते हैं. परंपरागत रूप से क्रिसमस भोज में टर्की पकाया जाता है.

छाई क्रिसमस की धूम

हवा में गिलास

परंपरागत रूप से सज्जित यह महिलाएं "कोलियाडी" मना रही हैं. बेलारूस के पोगोस्ट में जूलियन कैलेंडर के अनुसार 24 दिसंबर नहीं बल्कि 6 जनवरी की शाम को क्रिसमस समारोह शुरु होता है. कोलियाडी के गीत गाए जाते हैं, लोग हंसते गाते हैं और वोदका पीते हैं.

छाई क्रिसमस की धूम

"सब मेरा"

सिडनी, ऑस्ट्रेलिया के टारोंगा चिड़ियाघर में जानवरों के लिए भी भोज होता है. इनके लिए भी मोजों या दूसरे तरह की पारंपरिक पैकिंग में उपहार रखे जाते हैं. जैसे कि सौभाग्य से इस चिंपैंजी के लिए उपहार में कुछ अच्छी खाने की चीजें. मेरी क्रिसमस!

संबंधित सामग्री

हमें फॉलो करें