शर्म है तो कलमाड़ी को बर्खास्त करो: येचुरी

भारत में कॉमनवेल्थ गेम्स की तैयारी में भ्रष्टाचार के बढ़ते आरोपों के बीच सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी के नेतृत्व की कोर ग्रुप की बैठक हो रही है. भारत के सर्वोच्च ऑडिटर ने कहा है कि वित्तीय अनियमितताओं के सबूत मिले हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार खेल मंत्रालय को अपनी हाल की रिपोर्ट में कम्पट्रोलर और ऑडिटर जनरल (सीएजी) ने अनियमितताओं के एक दर्जन से अधिक मामले गिनाए हैं जिनमें ऐसा एक मामाला भी है जिसमें आयोजन समिति को 24 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. रिपोर्ट का कहना है कि कॉमनवेल्थ गेम्स के प्रमुख माइक फेनेल, मुख्य कार्यकारी माइक हूपर और आयोजन समिति के प्रमुख सुरेश कलमाड़ी के कहने पर ठेके दिए गए.

उधर भारत के लिए प्रतिष्ठा का मसला समझे जा रहे कॉमनवेल्थ गेम्स के आयोजन से ठीक पहले बढ़ती समस्याओं को बीच सत्ताधारी कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की बैठक में तैयारियों की निगरानी के लिए एक तंत्र बनाने के मुद्दे पर विचार होगा.

येचुरी का वार

मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली सरकार ने निगरानी पैनल बनाने की मांग अस्वीकार कर दी है. राज्य सभा के मनोनीत सदस्य और पूर्व खेल मंत्री मणिशंकर अय्यर की मांग वर्तमान खेलमंत्री एमएस गिल ने ठुकरा दी. लेकिन मीडिया रिपोर्टों के अनुसार अनियमितताओं के सामने आने के कारण पार्टी इस मुद्दे पर पुनर्विचार करने को बाध्य हुई है.

सुरेश कलमाड़ी पर पर विपक्ष का लगातार हमला जारी है. सीएजी रिपोर्ट आने के बाद बीजेपी ने भी सुरेश कलमाड़ी के इस्तीफे की मांग की है जबकि सीपीएम के सीताराम येचुरी ने कहा है कि यदि सरकार को शर्म है तो उसे कलमाड़ी को बर्खास्त करना चाहिए.

रिपोर्ट: एजेंसियां/महेश झा

संपादन: ओ सिंह

हमें फॉलो करें