हफ्तों पहले खिताब का फैसला

जर्मन फुटबॉल लीग के सीजन में अभी अच्छा खासा वक्त बाकी है लेकिन दनदनाती हुई एक टीम इससे पहले ही खिताब पर कब्जा करने वाली है. सबसे लोकप्रिय बायर्न म्यूनिख अगर अगला मुकाबला जीत जाती है, तो खिताब 22वीं बार उसका हो जाएगा.

जर्मन फुटबॉल लीग बुंडेसलीगा का खिताब अंकों के आधार पर तय होता है. इसके लिए पूरे सीजन में 34 मुकाबले खेले जाते हैं. इस सीजन में 26 मुकाबलों के बाद बायर्न के 69 अंक हैं और दूसरे नंबर पर चल रहे डॉर्टमुंड के 49 अंक. यानी फासला 20 अंकों का.

अब अगर शनिवार को दूसरे नंबर वाली डॉर्टमुंड की टीम श्टुटगार्ट के खिलाफ जीत हासिल करने में नाकाम रहती है और बायर्न म्यूनिख अपना मुकाबला हैम्बर्ग के खिलाफ जीत जाती है, तो फिर इस साल के टाइटल का फैसला हो जाएगा.

बायर्न म्यूनिख न सिर्फ जर्मनी, बल्कि पूरे यूरोप के लिए जाना पहचाना नाम है. उसने खिताबी जीत के बाद भी जश्न नहीं मनाने का फैसला किया है और अपना सारा ध्यान चैंपियंस लीग के क्वार्टर फाइनल के पहले दौर के मैच पर लगाएगा. युवेंटस के खिलाफ उसका मुकाबला चार अप्रैल को खुद उसके स्टेडियम में होना है.

बायर्न के खेल निदेशक मथियास सामर

जर्मन लीग की संभावित जीत के बारे में टीम के खेल निदेशक मथियास सामर का कहना है, "निश्चित तौर पर यह हमारे लिए बड़ी बात होगी लेकिन हमारे पास जश्न का वक्त नहीं है क्योंकि इसके 72 घंटे के अंदर ही युवेंटस की टीम पहुंचने वाली है."

बायर्न म्यूनिख की टीम हाल के कुछ सालों में अपने कोच के लिए भी चर्चा में रहा है. नौ साल के अंदर टीम अपने नौवें कोच पेप गुआर्दिओला का इंतजार कर रहा है, जो अगले सीजन में अपनी जिम्मेदारी संभालेंगे. वे पहले बार्सिलोना के कोच थे.

जर्मनी के राष्ट्रीय टीम के सारे बड़े सितारे इसी टीम से खेलते हैं और इसके गोलकीपर मानुएल नॉयर को तो इस वक्त का सबसे बड़ा गोलकीपर माना जाता है. टीम जर्मनी के अंदर भले ही अच्छा प्रदर्शन कर रही हो लेकिन यूरोपीय लीग मुकाबलों में पिछले एक दशक से इसका प्रदर्शन निराशाजनक रहा है. इसके नाम चार चैंपियंस लीग खिताब हैं, लेकिन 2001 के बाद यह यूरोप का सबसे प्रतिष्ठित फुटबॉल लीग कप नहीं जीत पाया है. पिछले साल इसे फाइनल में चेल्सी के हाथों हार झेलनी पड़ी थी.

दुनिया के सबसे बड़े गोलकीपर नॉयर

नॉयर का कहना है, "युवेंटस के खिलाफ मैच से पहले हमें हैम्बर्ग के खिलाफ अच्छा खेल दिखाना होगा ताकि हम अच्छी मानसिक स्थिति में चैंपियंस लीग के मैच में जा सकें."

अगर बायर्न शनिवार को ही जर्मन फुटबॉल लीग का विजेता तय होता है, तो यह जर्मन फुटबॉल इतिहास में नया रिकॉर्ड होगा, जब सिर्फ 27 मैचों के बाद कोई टीम चैंपियन बनेगी. इससे पहले भी यह रिकॉर्ड बायर्न के ही नाम था, जब उसने 1973 और 2003 में 30 हफ्तों के बाद खिताब जीत लिया था.

म्यूनिख अगर खिताब जीतता है, तो दो साल बाद इसकी चैंपियन के तौर पर वापसी होगी. पिछले दो साल से बुंडेसलीगा का खिताब पीली जर्सी वाली टीम डॉर्टमुंड जीत रही है.

एजेए/एमजे (डीपीए, एपी)

हमें फॉलो करें