बड़ी उपलब्धिः कुष्ठ रोग का पहला टीका भारत से

भारत में कुष्ठ रोग के इलाज के लिए दुनिया का पहला टीका विकसित किया गया है. दुनिया में सबसे ज़्यादा कुष्ठ रोगी भारत में ही हैं. इस लिहाज से टीके को एक बड़ी कामयाबी के रूप में देखा जा रहा है.

कुष्ठ रोग पश्चिमी देशों के लिए अब चिंता का कारण नहीं है. विश्व के अधिकतर देशों में कुष्ठ रोग का सफाया हो चुका है. लेकिन भारत अब भी कुष्ठ रोग की समस्या से जूझ रहा है. विश्व के कुल कुष्ठ रोगियों में से लगभग 60 फीसदी मरीज भारत में हैं. हर साल करीब सवा लाख लोग कुष्ठ रोग की चपेट में आ जाते हैं.

कारगर होने की संभावना

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च की निदेशक डॉक्टर सौम्या स्वामीनाथन के अनुसार भारत में विकसित टीका पूरी दुनिया में कुष्ठ रोग के लिए पहला टीका है. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इम्यूनोलॉजी के जीपी तलवार ने इस टीके को विकसित किया है. ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया और अमेरिका की एफडीए की मंजूरी इस टीके को मिल चुकी है. कुष्ठ के जीवाणुओं के शिकार लोगों के संपर्क में रहने वाले भी इस गंभीर बीमारी से संक्रमित हो जाते हैं. यह टीका उनके लिए भी कारगर साबित होगा.

कुष्ठ रोग से पीड़ित ज्यादातर लोग समय रहते बीमारी का पता ना चलने और इलाज के अभाव के कारण अपंग हो जाते हैं. सौम्या स्वामीनाथन का कहना है कि अगर कुष्ठ रोगियों के करीबी संपर्क में रहने वाले लोगों को यह टीका दिया जाए, तो 3 साल के अंदर ही 60 फीसदी कुष्ठ मामलों में कमी लायी जा सकती है. अगर कुष्ठ के कारण किसी की त्वचा जख्मी हो गई है, तो यह टीका उसके ठीक होने की रफ्तार भी बढ़ा देगा.

यह भी जानें: खून में आयरन की कमी के 10 लक्षण

खून में आयरन की कमी के 10 लक्षण

थकान

अधिकतर महिलाएं इसे संजीदगी से नहीं लेतीं. उन्हें लगता है कि उम्र के साथ फुर्ती का कम होना सामान्य बात है. लेकिन अगर आप घर का थोड़ा सा काम कर के भी थका हुआ महसूस करती हैं या फिर दफ्तर में आप अपने काम पर ध्यान नहीं लगा पा रही हैं, तो अपने खून का टेस्ट कराएं.

खून में आयरन की कमी के 10 लक्षण

फीका चेहरा

हीमोग्लोबिन खून को उसका लाल रंग देता है, जिससे चेहरे को अपनी रंगत मिलती है. हीमोग्लोबिन कम होगा तो चेहरा फीका और पीला सा दिखेगा. डॉक्टर भी आंखों के नीचे का लाल हिस्सा इसीलिए चेक करते हैं.

खून में आयरन की कमी के 10 लक्षण

दर्दनाक पीरियड्स

अगर पीरियड्स के दौरान खून का रिसाव बहुत ज्यादा हो रहा है, तो इससे शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा में कमी आ सकती है. ऐसे में डॉक्टर को दिखाना जरूरी है. पीरियड्स के दौरान फल, सब्जी और दालों की मात्रा बढ़ाएं.

खून में आयरन की कमी के 10 लक्षण

सांस फूलना

अगर सीढ़ियां चढ़ते हुए या रोजमर्रा के काम करते हुए आपकी सांस फूलने लगती है, तो यह आयरन की कमी की ओर इशारा है. पुरुषों में सामान्य हीमोग्लोबिन 13.5 से 17.5 ग्राम और महिलाओं में 12.0 से 15.5 ग्राम प्रति डीएल होता है, जबकि गर्भवती महिलाओं में यह 11 से 12 के बीच ही रहता है.

खून में आयरन की कमी के 10 लक्षण

तेज धड़कनें

हीमोग्लोबिन का काम शरीर में सही मात्रा में ऑक्सीजन पहुंचाने का होता है. इसकी कमी के कारण जब दिल तक ऑक्सीजन ठीक से नहीं पहुंच पाती, तो सांस फूलने के साथ साथ धड़कनें भी काफी तेज हो जाती हैं.

खून में आयरन की कमी के 10 लक्षण

टांगें हिलाना

अक्सर घर में बच्चों को ऐसा करने से मना किया जाता है. लेकिन रिसर्च दिखाता है कि जिन लोगों में आयरन की कमी होती है, उनका अपनी टांगों पर नियंत्रण नहीं रहता और वे अनजाने में ही टांगें हिलाने लगते हैं.

खून में आयरन की कमी के 10 लक्षण

सर दर्द

सिर्फ दिल ही नहीं, दिमाग के लिए भी ऑक्सीजन का सही मात्रा में होना बेहद जरूरी है. ऐसा ना होने पर सर में तेज दर्द होता है. ऐसे में डिस्प्रिन से कोई फायदा नहीं होता.

खून में आयरन की कमी के 10 लक्षण

घबराहट

ऑक्सीजन की ही कमी के कारण घबराहट भी महसूस होती है. आपको लग सकता है कि शायद आपके ब्लड प्रेशर के साथ कुछ गड़बड़ है. ऐसे में आयरन की गोलियां लेने से फायदा होता है. साथ ही संतरे का रस पिएं क्योंकि विटामिन सी के बिना आयरन का खून में मिलना मुश्किल होता है.

खून में आयरन की कमी के 10 लक्षण

अजीब चीजों की ललक

गर्भावस्था के दौरान अक्सर शरीर में आयरन की मात्रा कम हो जाती है. ऐसे में कई महिलाओं को चॉक, मिट्टी या फिर कागज जैसी चीजें खाने का मन करने लगता है. बहुत सी महिलाओं को बर्फ की ललक भी होती है.

खून में आयरन की कमी के 10 लक्षण

बालों का झड़ना

जब शरीर में किसी भी चीज की कमी होती है, तो शरीर प्राथमिकताएं तय करता है. बाल और नाखून उतने जरूरी नहीं जितना दिल और दिमाग का ठीक से काम करना. इसलिए शरीर बालों और नाखूनों की देखभाल बंद कर देता है.

उन्मूलन के लिए अभियान

टीके की शुरुआती जांच में अगर संतोषजनक नतीजे आते हैं, तो देशभर के बाकी कुष्ठ प्रभावित इलाकों में भी इसे मरीजों के लिए उपलब्ध कराया जाएगा. आने वाले कुछ ही हफ्तों में बिहार और गुजरात के 5 जिलों में इस टीके को उपलब्ध कराया जाएगा. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा का कहना है कि केंद्र सरकार ने देशभर के सर्वाधिक कुष्ठ प्रभावित 50 जिलों में घर घर जाकर मरीजों की पहचान का काम शुरू कर दिया है.

अब तक करीब साढ़े सात करोड़ लोगों की जांच हो चुकी है. इनमें से करीब 5,000 लोगों में कुष्ठ रोग के लक्षण पाए गए हैं. अभियान के अगले चरण में तमिलनाडु के इरोड जिले सहित इस महामारी से बुरी तरह ग्रस्त 163 जिलों में जांच अभियान शुरू किया जायेगा. जेपी नड्डा के अनुसार सरकार किसी को भी नहीं छोड़ना चाहती है. जो कुष्ठ रोग से पीड़ित पाए गए हैं, उन्हें चिकित्सा मुहैया करायी जाएगी. इन रोगियों के संपर्क में रहने वालों को संक्रमण से बचाने के लिए दवा दी जाएगी.

रोगियों के साथ बुरा सलूक

भारत में कुष्ट की समस्या काफी पुरानी है. महात्मा गांधी ने सामाजिक सेवा की शुरुआत कुष्ठ रोगियों की सेवा से की थी. गांधी जी ने कुष्ठ रोगियों को समाज के अन्य लोगों के बराबर दर्जा दिलाने की कोशिश की थी. उनके इस प्रयास की अब भी जरूरत है क्योंकि कुष्ठ रोगियों के साथ अब भी अपमानजनक व्यवहार होता है. यह रोग ‘न पाप है, न श्राप है', इस धारणा को तोड़ पाने में जागरूकता अभियान असफल ही साबित हुआ है. कुष्ठ रोग को आज भी छुआछूत की बीमारी माना जाता है.

देखिए, शराब से होते हैं ये 7 कैंसर

शराब से होते हैं ये 7 तरह के कैंसर

लिवर कैंसर

यह कोई नई बात नहीं है कि शराब पीने से लिवर खराब होता है. लेकिन कम ही लोगों को अहसास होता है कि यह कैंसर की भी शक्ल ले सकता है.

शराब से होते हैं ये 7 तरह के कैंसर

मुंह का कैंसर

सिगरेट और तंबाकू के पैकेट पर मुंह के कैंसर की तस्वीरें बनी होती हैं ताकि खरीदने वाले को चेतावनी मिले. हालांकि शराब के साथ अब तक ऐसा नहीं किया गया है.

शराब से होते हैं ये 7 तरह के कैंसर

गले का कैंसर

शोध दिखाता है कि जो लोग हर रोज शराब का सेवन करते हैं उनके मुंह के साथ साथ गले में भी कैंसर होने की संभावना अन्य लोगों से ज्यादा होती है.

शराब से होते हैं ये 7 तरह के कैंसर

खाने की नली का कैंसर

कहना गलत नहीं होगा कि शराब शरीर में जहां जहां जाती है नुकसान पहुंचाती है, खास कर अगर उसमें अल्कोहल की मात्रा बहुत ज्यादा हो. डॉक्टर हर रोज सिर्फ एक वाइन का ग्लास पीने की ही सलाह देते हैं.

शराब से होते हैं ये 7 तरह के कैंसर

बड़ी आंत का कैंसर

यदि आप शराब के साथ साथ सिगरेट भी खूब पीते हैं, मांस भी खाते हैं और साथ ही आपका वजन भी जरूरत से ज्यादा है, तो आपको इस तरह के कैंसर का खतरा ज्यादा है.

शराब से होते हैं ये 7 तरह के कैंसर

छोटी आंत का कैंसर

पुरुषों को इस तरह के कैंसर का खतरा महिलाओं की तुलना में अधिक होता है. यदि मूत्र में खून दिखे, तो डॉक्टरी जांच जरूर कराएं.

शराब से होते हैं ये 7 तरह के कैंसर

स्तन कैंसर

कसरत की कमी, मोटापा और शराब का अत्यधिक सेवन स्तन कैंसर का कारण बन सकते हैं. महिलाओं को इसका खतरा ज्यादा होता है लेकिन ऐसा नहीं है कि पुरुषों को यह नहीं होता.

शराब से होते हैं ये 7 तरह के कैंसर

सबसे खतरनाक

सिर्फ शराब ही कैंसर का कारण नहीं बनती, इसमें आपकी जीवनशैली की और भी बहुत सी चीजें शामिल होती हैं. आठ सबसे खतरनाक कैंसर के बारे में जानने के लिए ऊपर दिए गए "+और" पर क्लिक करें.

इस भ्रांति के चलते लोग कुष्ठ रोगियों से दूरी बना लेते हैं. इसी भ्रांति के कारण कुष्ठ रोगियों को समाज का साथ नहीं मिल पाता है, जो रोगियों के लिए बहुत ज़रूरी है. तमाम आधुनिकता के बावजूद भारतीय समाज में लोगों का कुष्ठ रोगियों के प्रति रवैये में कुछ खास फर्क नहीं आया है. ठीक हो जाने के बावजूद समाज इन रोगमुक्त व्यक्ति और उसके परिवार को घृणा की नजर से देखता है, इनके साथ छुआछूत का व्यवहार भी करता है. यही वजह है कि लोग खुलकर इलाज़ के लिए सामने नहीं आते.

हाशिए पर हैं कुष्ठ रोगी

सरकार और स्वयंसेवी संस्थाएं कुष्ठ रोगियों के लिए काफी कुछ करने का दावा करती हैं लेकिन समाज की मुख्य धारा में कुष्ठ रोगियों के लिए कोई स्थान बना पाने में सरकारें नाकाम रही हैं. उनके लिए विभिन्न राज्य सरकारों ने कई योजनाओं की शुरुआत की है, जिसमें पुनर्वास भत्ता, निःशुल्क चिकित्सा व आश्रम आदि का प्रबंध शामिल है. लेकिन समाज की मुख्यधारा में उनकी वापसी के लिए यह उपाय काफी नहीं हैं.

रोगियों को सहानुभूति से ज्यादा उन्हें आगे बढ़ने के लिए समान अवसर और कानूनी अधिकार देने की आवश्यकता है. पूरी तरह ठीक हो चुके, या रोग के चलते विकलांग हो चुके लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करने की आवश्यकता है. टीके की सफलता इस दिशा में महत्वपूर्ण छलांग साबित हो सकती है.

क्या आपने DW का ऐप डाउनलोड किया है? नहीं तो अभी कीजिए और भाषा में हिंदी चुनें

हमें फॉलो करें