भारत में बढ़ रही है ऑर्गेनिक खाने की मांग

भारत में ऑर्गेनिक फूड का बाजार अभी नया है लेकिन वह लगातार फैल रहा है और हर साल 20 फीसदी विकास की उम्मीद है. सिर्फ शहरों में बढ़ती मांग के कारण क्वालिटी पर आशंका व्यक्त की जा रही है.

जर्मनी मांसाहारियों का देश है लेकिन इस दिनों यहां सब्जियों की लोकप्रियता बढ़ रही है. सब्जियां आम तौर पर मुख्य भोजन मांस के साथ खायी जाती हैं. कुछ लोकप्रिय सब्जियां जो विदेशों में आम नहीं है. 

समाज

फूलगोभी

फूलगोभी को 16वीं शताब्दी से यूरोप के देशों में उगाया जा रहा है. समुद्रयात्री इसका बीज लेकर इटली आये थे. बाद में यह पूरे यूरोप में फैल गया. अब यह यूरोप में खाया जाने वाला सबसे लोकप्रिय गोभी है.

समाज

बंद गोभी

जर्मनी में लोकप्रिय गोभी की किस्मों में बंद गोभी भी शामिल है. इसका इस्तेमाल सलाद और विभिन्न प्रकार के गरम खाने में किया जाता है. इसी से जावरक्राउट बनाया जाता है, जो दुनिया भर में मशहूर जर्मन खाना है.

समाज

सेवॉय

ये भी एक प्रकार की गोभी है जो जर्मन खानों में साइड डिश के रूप में इस्तेमाल होती है. इसमें बहुत सारा विटामिन सी होता है और इसके करारे पत्ते खाने में विशेष स्वाद देते हैं. जर्मन में इसे विर्जिंग कहते हैं.

समाज

शलजम

गोभी के ही परिवार का शलजम भी जर्मनी में अत्यंत लोकप्रिय है. यह कच्चे भी खाया जाता है सलाद के रूप में. साथ ही कुछ पकवान भी बनते हैं. जर्मन नाम है कोलराबी और करीब 44 किस्में पैदा होती हैं.

समाज

टर्निप ग्रीन

ये खास प्रकार का गोभी का पत्ता है जो आम तौर पर वसंत में उपजाया जाता है. चूंकि इसके मुलायम पत्ते खाये जाते हैं इसलिए बुआई के समय बहुत ज्यादा बीज डाले जाते हैं ताकि जड़ें मजबूत न हों. जर्मन नाम रुइबश्टील.

समाज

जंगली लहसुन

ये पौधा प्याज और लहसुन की प्रजाति का है और जंगल में होता है. इन पत्तों का स्वाद लहसुन जैसा है और सुगंध भी. इसकी चटनी भी स्वादिष्ट बनती है. इसका इस्तेमाल सलाद से लेकर सूप, डिप और चीज बनाने में होता है.जर्मन में इसे वेयरलाउख कहते हैं.

समाज

काली जड़ें

श्वार्त्सवुर्त्सेल कही जाने वाली ये जडें आम तौर पर सर्दियों में खायी जाती है जब आम तौर पर ताजी सब्जियां नहीं उगतीं. इन्हें उबाल कर सब्जी की तरह खाया जाता है. यह बहुत ही स्वस्थ खाना है और इसे गरीबों का एसपैरागस कहा जाता है.

समाज

सफेद एसपैरागस

जर्मनी में सफेद एसपैरागस को उबले आलू और क्रीम सॉस के साथ काया जाता है. भारत में इसे शतावरी कहते हैं. यूं तो हरा एसपैरागस भी होता है लेकिन जर्मनों को वसंत में अपने सफेद एसपैरागस का इंतजार रहता है.

समाज

गाजर, अजमोद

अजमोद का पत्ता धनिया के पत्ते जैसा होता है. भूमध्य सागर के इलाके का यह पौधा अब पूरे यूरोप में पाया जाता है और जर्मन खाने का लोकप्रिय हिस्सा है. गाजर के साथ इसकी जड़ का इस्तेमाल सूप बनाने में होता है.

समाज

मूली

बवेरिया में लोकप्रिय रही मूली अब सारे जर्मनी में मिलती है. सफेद और लाल मूली खाने का अभिन्न अंग है. मध्ययुग से जर्मनी में इसकी खेती हो रही है. पाचन में मदद के कारण भी यह एक लोकप्रिय आहार है.