मोर्चे पर सैनिकों के लिए मां के हाथ का खाना

मिसराता की एक कोठी में मांएं अपने लाडलों के लिए खाने के पैकेट तैयार कर रही हैं. खाने में प्यार के साथ कविताएं और प्यारे संदेश भी हैं. यह खाना लीबिया की राजधानी त्रिपोली के बाहरी इलाकों में लड़ रहे सैनिकों तक जाएगा.

हर दिन 10 हजार से ज्यादा खाने के पैकेट 200 किलोमीटर दूर मोर्चे पर भेजे जा रहे हैं. जंग त्रिपोली के दक्षिणी इलाके में लीबिया के ताकतवार लड़ाके खलीफा हफ्तार के खिलाफ चल रही है.

दुनिया | 14.01.2016

2011 के बाद यह चौथी बार है जब मिसराता के लोग हफ्तार की सेना से गवर्नमेंट नेशनल एकॉर्ड के झंडे तले लड़ रहे हैं. गवर्नमेंट ऑफ नेशनल अकॉर्ड देश की अंतरराष्ट्रीय मान्यताप्राप्त सरकार है. मिसराता के लड़ाकों को लीबिया की सबसे संगठित फौज माना जाता है. यही लड़ाके उस विद्रोह का भी नेतृत्व कर रहे थे जिसने लीबिया की सत्ता से मुअम्मर गद्दाफी की सत्ता उखाड़ फेंकी. 2014 में त्रिपोली पर कब्जे की लड़ाई में वो पूरी तन्मयता से जुटे थे और 2016 में इस्लामिक स्टेट को सिर्ते में उन्होंने ही परास्त किया.

मौजूदा लड़ाई ना सिर्फ जंग के मैदान में चल रही है बल्कि रसोई घरों में भी. मिसराता की कई महिला संगठनों के भरोसे मोर्चे पर चल रही जंग के लिए खाना तैयार किया जा रहा है. इनमें अल नरजेस नाम का संगठन तो अकेले ही रोजाना 2000 खाने के पैकेट तैयार करता है. अप्रैल की शुरूआत में हफ्तार की सेना के राजधानी पर हमला करने के बाद शहर के मध्य में मौजूद एक कोठी को फील्ड किचेन में तब्दील कर दिया गया. यहां दो शिफ्टों में करीब 100 महिलाएं काम करती हैं. फर्श पर एक गोल घेरे में बैठी औरतें मीट, सब्जियां काटती हैं. इस दौरान जंग के गीत और अल्लाह का गुणगान भी लगातार चलता है. खाने का सामान स्थानीय कारोबारी दान में देते हैं.

नवारा अली बताती हैं कि वो हर सुबह सात बजे यहां पहुंच जाती हैं ताकि इफ्तार तैयार कर सकें. पिछले हफ्ते रमजान का महीना शुरू हुआ और ऐसे में शाम को इफ्तार की तैयारी करना बेहद जरूरी है. उनके छह बेटे हैं और 2011 से अबतक कई बार अलग अलग लड़ाइयों में हिस्सा ले चुके हैं. उनमें से चार इस वक्त त्रिपोली में जीएनए और हफ्तार की स्वघोषित नेशनल आर्मी से लड़ रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक अब तक इस जंग में 430 लोगों की मौत हुई है.

मांओं के लिए यह प्यार की मेहनत है. नवारा अली कहती हैं, "अगर मैं थक जाऊं या फिर रोजे के कारण कमजोरी महसूस करूं तब भी यहां आ कर जंग लड़ रहे अपने बेटों के लिए खाना बनाना मुझे खुशी से भर देता है." 55 साल की नवारा अली बताती हैं, "लोग मुझसे पूछते हैं कि मैंने अपने बेटों को जंग में क्यों जाने दिया. तो मैं उन्हें बताती हूं कि लीबिया कुर्बानी देने के लायक है और हजारों युवाओं ने आजादी की कीमत अपनी जान दे कर चुकाई है."

रसोई की जिम्मेदारी संभालने वाली हलीमा अल गमुदी को यह काम बटालियन के चीफ जैसा लगता है. मोर्चे पर सूप, मीट, घर में बनी रोटी और भरवां पाई आमतौर पर भेजी जाती है. यह खाना प्लास्टिक कंटेनर में भेजा जाता है जिस पर संगठन का लेबल लगा रहता है. इस कंटनेर पर लिखा है, "गुस्से की ज्वालामुखी के समर्थन में." यह जीएनए के उस अभियान का कोडनेम है जो, त्रिपोली को हफ्तार के हाथों में जाने से बचाने के लिए शुरू किया गया. सेलोफीन से ढंके पैकेट में महिलाएं हाथ से लिखी पर्चियां डाल देती हैं. इन पर्चियों में कभी कविताएं लिखी होती हैं तो कभी प्यारे से संदेश.

जंग के दौर में सैनिकों से फोन पर बात करना भी मुमकिन नहीं. ऐसे में यह पर्चियां ही उनकी भावनाओं को उनके लाडलों तक पहुंचाती हैं. मोर्चे पर गोलियों की बौछार के बीच यह खाना और यह संदेश सैनिकों में जोश भर देते हैं.

एनआर/एमजे (एएफपी)

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

1. सऊदी अरब

क्षेत्रफल: 21.49 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 3.3 करोड़, राजधानी: रियाद, मुद्रा: सऊदी रियाल.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

2. मिस्र

क्षेत्रफल: 10.10 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 9.62 करोड़, राजधानी: काहिरा, मुद्रा: इजिप्शियन पाउंड.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

3. संयुक्त अरब अमीरात

क्षेत्रफल: 83,600 वर्ग किलोमीटर, आबादी: 94 लाख, राजधानी: अबु धाबी, मुद्रा: यूएई दिरहम.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

4. कतर

क्षेत्रफल:11,581 वर्ग किलोमीटर, आबादी: 25.75 लाख, राजधानी: दोहा, मुद्रा: रियाल.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

5. अल्जीरिया

क्षेत्रफल: 23.81 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 4 करोड़, राजधानी: अल्जीरियस, मुद्रा: दीनार.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

6. इराक

क्षेत्रफल: 4.37 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 3.72 करोड़, राजधानी: बगदाद, मुद्रा: इराकी दीनार.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

7. कुवैत

क्षेत्रफल: 17,818 वर्ग किलोमीटर, आबादी: 43.48 लाख, राजधानी: कुवैत सिटी, मुद्रा: कुवैती दीनार.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

8. मोरक्को

क्षेत्रफल: 7.1 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 3.3 करोड़, राजधानी: रबात, मुद्रा: मोरक्कन दिरहम.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

9. ओमान

क्षेत्रफल: 3.09 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 44.24 लाख, राजधानी: मस्कट, मुद्रा: रियाल.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

10. लीबिया

क्षेत्रफल: 17.59 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 62.93 लाख, राजधानी: त्रिपोली, मुद्रा: लीबियन दीनार.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

11. सूडान

क्षेत्रफल: 18.86 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 3.95 करोड़, राजधानी: खारतूम, मुद्रा: सूडानी पाउंड.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

12. ट्यूनीशिया

क्षेत्रफल: 1.63 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 1.09 करोड़, राजधानी: ट्यूनिस, मुद्रा: ट्यूनीशियन दीनार.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

13. लेबनान

क्षेत्रफल: 10.45 हजार वर्ग किलोमीटर, आबादी: 60 लाख, राजधानी: बेरुत, मुद्रा: लेबनानी पाउंड.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

14. सीरिया

क्षेत्रफल: 1.85 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 1.70 करोड़, राजधानी: दमिश्क, मुद्रा: सीरियन पाउंड.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

15. यमन

क्षेत्रफल: 5.27 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 2.75 करोड़, राजधानी: सना, मुद्रा: यमनी रियाल.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

16. जॉर्डन

क्षेत्रफल: 89.34 हजार वर्ग किलोमीटर, आबादी: एक करोड़, राजधानी: अम्मान, मुद्रा: दीनार.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

17. बहरीन

क्षेत्रफल: 765 वर्ग किलोमीटर, आबादी: 14.25 लाख, राजधानी: मनामा, मुद्रा: बहरीनी दीनार.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

18. फलस्तीन

(अभी अलग देश नहीं बना है.)

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

19. मॉरिटानिया

क्षेत्रफल: 10.3 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 43.01 लाख, राजधानी: नोआकचोट, मुद्रा: ओएगुइया.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

20. सोमालिया

क्षेत्रफल: 6.37 लाख वर्ग किलोमीटर, आबादी: 1.43 करोड़, राजधानी: मोगादिशु, मुद्रा: सोमाली शिलिंग.

अरब दुनिया शामिल हैं ये देश..

21. जिबूती

क्षेत्रफल: 23.20 हजार वर्ग किलोमीटर, आबादी: 9.42 लाख, राजधानी: जिबूती, मुद्रा: जिबूतियन फ्रांक.

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

हमें फॉलो करें